आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 14 Oct 2017 10:14:58

एक राष्ट्र लोगों का एक समूह होता है जो एक लक्ष्य’,’एक आदर्श’,’एक मिशन’ के साथ जीते हैं और एक विशेष भूभाग को अपनी मातृभूमि के रूप में देखते हैं. यदि आदर्श या मातृभूमि  दोनों में से किसी का भी लोप हो तो एक राष्ट्र संभव नहीं हो सकता - पंडित दीनदयाल उपाध्याय