आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 02 Oct 2017 22:16:33


दुसरो के कल्याण से बढ कर, दूसरा और कोई नेक काम और धर्म नही होता।" - इश्वर चन्द्र विद्यासागर