आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 04 Oct 2017 21:09:31


अगर आप ईश्वर को अपने भीतर और दूसरे वन्य जीवो में नहीं देख पाते, तो आप ईश्वर को कही नहीं पा सकते-स्वामी विवेकानंद