आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 21 Nov 2017 22:35:01


भय और अधूरी इक्षाएँ सभी दुखों का मूल हैं-स्वामी विवेकानंद