आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 03 Nov 2017 18:26:19

"बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय l"- संत कबीर

अर्थ-जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला l जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है l