09 फरवरी / पुण्यतिथि – कुष्ठ रोगियों की सेवा में लीन रहे अखण्ड सेवाव्रती बाबा आम्टे

दिंनाक: 09 Feb 2017 17:49:26


विसंकें (भोपाल) l  सेवा का मार्ग बहुत कठिन है, उसमें भी कुष्ठ रोगियों की सेवा तो अत्यधिक कठिन है l ऐसे लोगों को स्वयं भी रोगी हो जाने का भय रहता है, पर मुरलीधर देवीदास (बाबा) आम्टे ने सेवा के कठिन क्षेत्र को ही अपनाया l इससे उनके परिजन इतने प्रभावित हुये कि उनकी पत्नी, पुत्र, पुत्रवधू और पौत्र भी इसी कार्य में लगे हैं l ऐसे समाज सेवी परिवार दुर्लभ ही होते हैं l बाबा आम्टे का जन्म 26 दिसम्बर, 1914 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले के एक जमींदार परिवार में हुआ था l कानून की शिक्षा पाकर उन्होंने वर्ष 1942 के ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ में बन्दी सत्याग्रहियों के मुकदमे लड़े, लेकिन झूठ पर आधारित इस काम में उनका मन नहीं लगा l कुष्ठ रोगियों की दुर्दशा देखकर उन्हें बहुत कष्ट होता था l अतः उन्होंने इनकी सेवा करने का निर्णय लिया l

इस विचार का उनकी पत्नी साधना ताई ने केवल स्वागत ही नहीं किया, अपितु पूरा सहयोग भी दिया l दोनों ने कोलकाता जाकर कुष्ठ रोग के उपचार का प्रशिक्षण लिया और फिर दो पुत्रों प्रकाश व विकास तथा छह कुष्ठ रोगियों के साथ महाराष्ट्र के चन्द्रपुर में ‘आनन्दवन’ नामक आश्रम स्थापित किया l इसके नाम से ही स्पष्ट है कि बाबा को इस कार्य में आनंद का अनुभव होता था l यद्यपि उनका विरोध भी बहुत हुआ l उस समय धारणा यह थी कि कुष्ठ रोग पूर्वजन्म के पापों का फल है, पर बाबा ने इसकी चिन्ता नहीं की l धीरे-धीरे आश्रम की प्रसिद्धि होने लगी l बाबा के मधुर व्यवहार और समर्पण के कारण दूर-दूर से कुष्ठ रोगी आश्रम में आकर रहने लगे l बाबा आम्टे ने उन्हें भिक्षावृत्ति से हटाकर छोटे कुटीर उद्योगों में लगाया, जिससे उन्हें आय होने लगी l इससे उन्हें स्वाभिमान एवं सम्मानपूर्वक जीने का नया मार्ग मिला l इस समय वहां 3,000 से अधिक कुष्ठ रोगी हैं, जिनकी सेवा में बाबा के दोनों चिकित्सक पुत्र, पुत्रवधुएं तथा पौत्र भी पूर्ण निष्ठा से लगे हैं l

बाबा सामाजिक सरोकारों से भी जुड़े रहते थ l सरदार सरोवर बांध के निर्माण के समय विस्थापितों द्वारा किये जा रहे आन्दोलन को उन्होंने आन्दोलनकारियों के बीच जाकर सक्रिय समर्थन दिया l जिन दिनों पंजाब में उग्रवाद चरम पर था, बाबा ने वहां का प्रवास किया l इसी प्रकार जब महाराष्ट्र में क्षेत्रवादी आन्दोलन ने जोर पकड़ा, तो बाबा ने साइकिल से पूरे भारत का भ्रमण किया l इसे उन्होंने ‘भारत जोड़ो’ यात्रा नाम दिया l बाबा सदा अपनी मौलिकता में जीते थे l गांधी जी से प्रभावित होने के कारण वे अपने आश्रम में बनी खादी के वस्त्र पहनते थे l राष्ट्रपति से सम्मान लेते समय भी वे खादी की साधारण बनियान पहन कर ही गये l रक्त कैंसर (ल्यूकेमिया) और रीढ़ की बीमारी से ग्रसित होने के कारण जब उन्हें बैठना सम्भव नहीं रहा, तो वे लेटकर ही प्रवास, बातचीत और भाषण देने लगे l वे कुष्ठ के किसी खतरे से घबराये नहीं l उन्होंने कुछ दवाओं का परीक्षण रोगियों से पहले स्वयं पर करवाया l यह बड़े साहस की बात है l

उन्हें देश-विदेश की सैकड़ों संस्थाओं ने सम्मानित किया l इनमें पद्मश्री, पद्म विभूषण, डॉ. अम्बेडकर अन्तरराष्ट्रीय सम्मान, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार सम्मान, रेमन मैगसेसे सम्मान, टेम्पलटन सम्मान आदि प्रमुख हैं l कुष्ठ रोगियों की सेवा को अपना जीवन सर्वस्व मानने वाले इस अखंड सेवाव्रती का नौ फरवरी, 2008 को अपनी कर्मस्थली आनन्दवन में ही देहान्त हुआ l