क्या पांच वक्त का नमाजी कट्टर मुस्लिम भी आरएसएस का स्वयंसेवक बन सकता हैं?

दिंनाक: 13 Apr 2017 11:57:43

अभी अभी विगत दिनों हुए उत्तर प्रदेश राज्य विधानसभा के चुनाव ने कई लोगों की आँखें खोल दीं । आम धारणा के विपरीत, कई मुसलमानों ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पक्ष में मतदान किया। इसमें महत्वपूर्ण योगदान रहा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्वयंसेवकों का | शायद बहुतों के लिए यह जानकारी नई होगी कि पिछले कई सालों से बड़ी संख्या में मुसलमान, ईसाई और सिख संघ परिवार के सहयोगी हैं।

अब सवाल उठता है कि अल्पसंख्यक आरएसएस की गतिविधियों से क्यों जुड़ रहे हैं ? आखिर वे एक ऐसे संगठन में क्यों शामिल हो रहे हैं, जिसे आम तौर पर भारत में धर्मनिरपेक्ष राजनीति का विरोध करने वाला माना जाता है ? उनकी पृष्ठभूमि क्या हैं ? क्या हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्रवाद अलग अलग हैं, जैसा कि कई लोग कहते हैं ? और क्या भारत के इस सबसे शक्तिशाली सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन में धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए कोई समान स्थान है, और वह भी आज के राजनैतिक परिद्रश्य में ?

इनमें से कुछ सवालों का जवाब पाने के लिए, न्यूज़ 18 ने कई मुस्लिम, ईसाई और सिख समुदाय के लोगों के साथ बातचीत की जो संघ से जुड़े हुए हैं। साक्षात्कारकर्ता ने देश भर में जिन लोगों से संपर्क किया, उनमें समाज के हर वर्ग का प्रतिनिधित्व था - सर्जन से लेकर किसान तक, व्यवसायियों से शिक्षाविदों तक।

लखनऊ की शबाना आज़मी जैसे कुछ अल्पसंख्यक सदस्यों को आरएसएस से जुड़ाव पसंद है, तो कुछ फैज खान की तरह सार्वजनिक रूप से गायों की स्तुति में भजन गाते हैं।

अपनी आस्था के अनुसार उपासना पद्धति अपनाते हुए भी इन लोगों को आरएसएस की शाखाओं में सम्मिलित होने या हिंदू प्रार्थनाओं का गायन करने में कोई संकोच नहीं होता । दिलचस्प बात यह है कि ये सभी राम मंदिर के पक्ष में हैं, लेकिन बहुत से ऐसे भी हैं जो समान नागरिक संहिता या तीन तलाक़ के उन्मूलन के विचार से असहमत हैं।

इनमें से कुछ लोग आरएसएस से इस लिए जुड़े, क्योंकि उनके परिवार के कुछ सदस्य आरएसएस से सम्बद्ध 25 से अधिक संगठनों के साथ संपर्क में आये और फिर वरिष्ठ संघ अधिकारियों के विचारों और भाषणों से प्रभावित हुए ।

इन लोगों की प्रोफाइल से संगठन के प्रभाव की बहुत कुछ जानकारी मिलती है | विरोधी जितना मानते हैं, यह उससे कहीं अधिक है |

गुलरेज शेख, 34, दंत चिकित्सा सर्जन, उज्जैन

शेख विगत आठ वर्षों से आरएसएस से जुड़े हुए हैं, उनका परिवार डॉक्टरों का परिवार है। उनके पिता और दो भाई सामान्य सर्जन हैं, उनकी पत्नी एक सामान्य चिकित्सक और बहन एक स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं।

जैसे ही राम मंदिर का मुद्दा उठाया जाता है, यह शांत और सौम्य चिकित्सक उग्र हो जाता है। "आप क्यों कहते हैं कि आरएसएस ने बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया? क्या यह अदालत में साबित हुआ है? जिस समय मस्जिद को ध्वस्त किया गया, मैं वहाँ नहीं था। हमें अतीत को भूलकर वर्तमान में जीना चाहिए । "

गुलरेज शेख, राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के उज्जैन जिला प्रभारी हैं

शेख कहते हैं कि वर्तमान में राम मंदिर के बिना अयोध्या की कल्पना नहीं की जा सकती। "देश के हित में, मुसलमानों को विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने की सहमति देना चाहिए और मुझे विश्वास है कि सरयू के दूसरे हिस्से में मस्जिद के निर्माण में आरएसएस को भी आपत्ति नहीं होगी ।"

शेख के पिता संघ के आदिवासी संगठन वनवासी कल्याण आश्रम से जुड़े हुए थे, और उनके पिता की प्रेरणा से ही गुलरेज शेख भी आरएसएस के साथ जुड़े ।

"जो कोई भी खुले दिमाग के साथ देश के बारे में सोचता है, वह आरएसएस के प्रति आकर्षित हुए बिना नहीं रह सकता । मैं कोई अनोखा व्यक्ति नहीं हूं। भारत में सभी मुसलमानों के पूर्वज हिंदू थे ... जब हम इस तथ्य को समझ लेंगे कि हमारे पूर्वज राम हैं, बाबर नहीं, ठीक बैसे ही जैसे कि सभी यूरोपीय लोग काकेशियन हैं और सभी अफ्रीकी काले हैं, तब हम सभी देश की भलाई के लिए काम करेंगे। "

मैं असंदिग्ध रूप से अपना रमज़ान का उपवास शाखा पर ही तोड़ता हूँ ।

- गुलरेज शेख

आरएसएस के साथ काम करने में मुझे कोई दिक्कत नहीं आती? "हाँ मेरे समुदाय में अवश्य आलोचना होती है, बहुत से लोग कहते हैं कि मुझे भुगतान किया जाता है। लेकिन युवाओं ने मुझे समर्थन दिया है, क्योंकि वे इस देश की सेवा करने का अवसर चाहते हैं। "

शेख आरएसएस के मुस्लिम विंग राष्ट्रीय मुस्लिम मंच (आरएमएम) के उज्जैन जिला प्रभारी है और उनका दावा है कि कई अल्पसंख्यक संघ की गतिविधियों से जुड़े हुए हैं । "मैं सभी मुसलमानों को बताता हूं कि तुष्टिकरण की नीति के कारण हमारे समुदाय का बहुत नुकसान हुआ है और हमें संगठित होकर आरएसएस के साथ जुड़ना चाहिए और आरक्षण के बजाय समान अवसर मांगना चाहिए।"

इनमें से कोई भी बात शेख को एक धार्मिक मुसलमान होने से नहीं रोकती "मेरी उपासना पद्धति मुस्लिम है और मैं रमजान के दौरान उपवास भी करता हूं। मैं शाखा पर अपना उपवास तोड़ता हूं, इस बारे में कोई संदेह नहीं है। "

शबाना आज़मी, 38, शिक्षक, लखनऊ

उनके कई दोस्तों और रिश्तेदारों को भी नहीं पता कि अरबी अध्ययन की शिक्षक शबाना कब एक वर्ष पूर्व आरएसएस के साथ जुड़ गईं। स्वभाव से वह शर्मीली है, लेकिन संघ के साथ अपने संबंध को लेकर उन्हें कोई खेद नहीं है |

"यह एक हुश हुश मामला था और मेरे परिवार में इस विषय को लेकर मेरी बहुत आलोचना भी हुई । कुछ करीबी दोस्तों को जब मैंने संघ के साथ अपने संबंध का खुलासा किया, तो उन्होंने मेरा मजाक भी बनाया, लेकिन मैंने उन्हें सबसे पहले अपने धर्म और पैगंबर के जीवन के बारे में जानकारी लेने के लिए कहा । "

शबाना आज़मी अवध क्षेत्र में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच आरएमएम की समन्वयक हैं

राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के अवध क्षेत्र के प्रमुख का भाषण सुनने के बाद शबाना संघ से जुडीं । लखनऊ में आयोजित एक उर्दू प्रमोशन कार्यक्रम में उनकी मुलाक़ात महाराज धीरज सिंह से हुई। " धोती कुर्ता पहने एक सरल इंसान, में पहना, उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के जीवन और उस काल के बारे में बात की। इसके पहले मैंने इस विषय पर किसी को भी नहीं सुना था, यहां तक ​​कि मेरे स्वयं के समुदाय में भी नहीं, उन्होंने इस्लाम पर बहुत अच्छे ढंग से प्रकाश डाला । मैं उनसे तुरंत प्रभावित हुई |

यदि आप मुसलमानों से व्यक्तिगत चर्चा करें तो आपको ज्ञात होगा कि उनमें से अधिकाँश राम मंदिर के समर्थन में हैं ।

- शबाना आज़मी

शबाना ने आरएसएस के सामाजिक कार्य को नजदीक से देखा है । "लखनऊ से अजमेर जाने वाली एक बस दुर्घटना ग्रस्त हो गई । उस स्थान पर सबसे पहले पहुंचने वाले स्वयंसेवक ही थे। उसी दिन मैंने देश में अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिए आरएसएस से जुड़ने का फैसला कर लिया । "

और एक वर्ष में ही वे पहले तो सिंह के साथ सह संयोजक बनीं और अब वह अवध क्षेत्र के लिए आरएमएम की समन्वयक हैं। उन्होंने कई मुस्लिम और ईसाई महिलाओं को संघ की गतिविधियों के साथ सक्रिय रूप से जोड़ा ।

आज़मी का मानना ​​है कि राम मंदिर पर विवाद बिल्कुल अनावश्यक है। "मुसलमानों ने कभी अयोध्या में राम मंदिर पर आपत्ति नहीं की है। केवल निहित स्वार्थों के कारण ही कुछ लोग इसके बारे में शोर मचा रहे हैं। अगर आप मुसलमानों से व्यक्तिगत चर्चा करें, तो आपको मंदिर के लिए एक बड़ा समर्थन मिलेगा। "

38 वर्षीय यह शिक्षिका बहुविवाह और ट्रिपल तलाक को समाप्त करने की इच्छा रखती हैं। "ट्रिपल तलाक और बहुपत्नी पवित्र कुरान के खिलाफ हैं इन प्रथाओं का समर्थन करने वाले मौलवियों को अपने स्वयं के धर्म के बारे में जानकारी नहीं है एक विवाहित व्यक्ति किसी और से शादी करने के बारे में कैसे सोच सकता है? जबकि मेरा इस्लाम तो समानता के लिए खड़ा है। "

जीएस गिल, 52, अतिरिक्त एडवोकेट जनरल, जयपुर

वर्तमान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सिख शाखा राष्ट्रीय सिख संगत के राष्ट्रीय अध्यक्ष गिल, पूर्व में श्रम अधिकारों के लिए सक्रिय 'वामपंथी' थे। वामदलों की कार्यशैली से 'असंतुष्ट' होकर वे पहले भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) में सम्मिलित हुए, और फिर आरएसएस के कार्यकर्ता बने।

जीएस गिल राष्ट्रीय सिख संगति के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, जो आरएसएस की सिख शाखा हैं

गिल कहते हैं कि उन्हें बीएमएस में शामिल होने की प्रेरणा स्व. दत्तोपंत ठेंगडी से मिली, जो आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक तथा बीएमएस के संस्थापक थे | उन्होंने ही स्वदेशी जागरण मंच और भारतीय किसान संघ की आधारशिला रखी, जो क्रमशः घरेलू अर्थव्यवस्था और किसान अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं। उनका भाषण सुनने के बाद श्री गिल सिख सन्गत से जुड़े |

1 9 84 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद उपजे तनावपूर्ण वातावरण में जिस तरीके से संघ ने हिंदू और सिखों के बीच घनिष्ठ संबंध बनाए रखने के लिए कार्य किया, उसे देखने के बाद वरिष्ठ वकील, गिल ने राष्ट्रीय सिख संगति का गठन किया।

मंदिर वही बनना चहिये राम भारत के नायक हैं

- जीएस गिल

वह अपने बेटे के साथ शाखाओं में जाते है, हालांकि नियमित रूप से नहीं। आरएसएस के साथ उनके सहयोग के प्रारंभिक चरण में उनके समुदाय के सदस्यों के बीच कुछ मतभेद हुए । "एनआरआई सिख और कुछ अन्य जो स्वयं पंजाब में नहीं रहते थे, मुझे बाहरी व्यक्ति, आरएसएस मैन कहते थे। लेकिन अब समय बदल गया है और समुदाय के सदस्यों को पता है कि यदि किसी मदद की आवश्यकता है, तो मैं वहां हूं। "

राम मंदिर को लेकर गिल के मन में कोई संदेह नहीं है। "मंदिर बहीं बनना चाहिये। राम भारत के नायक हैं यह आस्था का प्रश्न है (राम मंदिर को बहीं बनाया जाना चाहिए जहां बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किया गया था। राम राष्ट्रीय नायक हैं।) "

हालांकि, वह संवैधानिक समान सिविल संहिता का समर्थन नहीं करते और उनका मानना है कि प्रत्येक धर्म में विरासत और विवाह के अपने स्वयं के कानून होने चाहिए। लेकिन वे स्पष्ट रूप से तीन तलाक और बहुपत्नी प्रथा के खिलाफ है |

फैज खान, 38, पूर्व प्रोफेसर, रायपुर

संघ के साथ खान का संबंध शायद उनके बारे में सबसे कम आश्चर्यजनक बात है। वे एक पूर्णकालिक गौ भक्त हैं तथा 'पवित्र गाय' पर भजन गाते है। 24 जून से वे गाय के गुणों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए, लद्दाख से कन्याकुमारी तक 3,000 किलोमीटर की दूरी की यात्रा प्रारम्भ करेंगे ।

पूर्व राजनीति विज्ञान के प्राध्यापक फैज खान कहते हैं कि वे आरएसएस के आधिकारिक प्रचारक तो नहीं है लेकिन संगठन को बढ़ावा देने के लिए वह जो कुछ भी कर सकते है, जरूर करेंगे । पूरे देश में आरएसएस को बढ़ावा देने के लिए अपना पूरा समय देने वाले फैज खान ने आजीवन अविवाहित रहने का भी निश्चय किया है ।

गौ रक्षा प्रकोष्ठ के संस्थापक फैज खान

धमकियां आती हैं कि हिंदुओं से मिल गये हो, इस्लाम के खिलाफ़ जा रहे हो ...

- फ़ैज खान

"मैं तीन से नौ दिन की गौ गाथा कार्यक्रम करता हूं जिसमें मैं गीता और पुराणों से ली हुई गाय की पौराणिक कथाओं को गाता हूं। अधिकांश अध्याय अवधी और संस्कृत में हैं | लोग पहले तो मंच पर गौ कथा प्रस्तुत करते एक मुसलमान को देखकर अचम्भा करते हैं, किन्तु मुझे 5 मिनट सुनने के बाद हर किसी का संदेह दूर हो जाता है । "

मुस्लिम धर्मावलम्बी खान रमजान के दौरान पूरे 30 दिनों तक उपवास करते है, लेकिन उन्हें इस तथ्य से कोई समस्या नहीं है कि संघ परिवार के नेतागणों ने 1992 में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त करने वाले करसेवकों का नेतृत्व किया था । "यह गुस्से का प्रवाह था जिसमें बाबरी मस्जिद डूब गई। आरएसएस ने कभी भी, किसी भी पूजा स्थल को नष्ट नहीं किया है। "

खान कहते हैं कि विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए क्योंकि राम न केवल "भारतीय सभ्यता के प्रतीक" है बल्कि "मुस्लिम समेत सभी भारतीयों के पूर्वज" भी हैं।

खान कहते हैं कि ट्रिपल तलाक जैसे व्यवहार पूरे समुदाय के लिए "शर्म की बात है"। "स्वतंत्रता के बाद से मुसलमानों के साथ तुष्टीकरण की नीति रही है, जिसे सुधारने की जरूरत है। कुछ लोग चाहते हैं कि मुसलमान स्वयं को असुरक्षित महसूस करते रहें, ताकि वे उनका उपयोग निहित स्वार्थों की पूर्ति के लिए करते रहें । कुछ मीडिया घराने भी इस काम में संलग्न हैं | जबकि सचाई यह है कि आरएसएस में हजारों मुसलमानों हैं, जिनके मन में संघ के इरादों के बारे में कोई संदेह नहीं है। "

जाकिर मंसुरी, 37, व्यापारी, बडवानी, मध्य प्रदेश

36 वर्षीय स्पेयर ऑटो पार्ट्स डीलर जाकिर मंसुरी संघ से कभी विलग नहीं होते । उनकी माँ बडवानी में भाजपा की पार्षद थीं तथा वे संघ से भी प्रभावित थीं ।

जाकिर मंसुरी का अध्ययन सरस्वती शिशु मंदिर में हुआ और जल्द ही उन्होंने शाखा जाना भी प्रारम्भ कर दिया । 2004-05 तक वे आरएसएस के द्वितीय वर्ष शिक्षित स्वयंसेवक बन गए । आरएसएस के जिला कार्यवाह के रूप में वे नए लोगों को संघ से जोड़ने हेतु सतत सक्रिय रहते हैं, तथा जिले की सभी शाखाओं की देखरेख करते हैं |

ज़ाकिर मंसूरी, जिला कार्यवाह आरएसएस

लेकिन उनका समुदाय उनसे अप्रभावित है । "जब भी हम कुछ अच्छा करते हैं, तो उनकी ओर से प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं होती हैं। मेरे मुस्लिम समुदाय के सदस्य, जो मेरा विरोध करते हैं, नकारात्मकता में जी रहे हैं। मेरा ब्राह्मण परिवारों में भी उठना बैठना है और मुझे पता है कि वे लोग कितने बुद्धिमान और उदार हैं । "

एक शिया मुस्लिम, मंसूरी दैनिक नमाज पढ़ते हैं, किन्तु मुहर्रम जुलूस में शामिल नहीं होते। उनका कहना है कि "यह पूरी तरह से अनियंत्रित होता है और मैं इसके खिलाफ हूं। "

मांस खाना कतई जरूरी नहीं है |

- ज़किर मंसूरी

राम मंदिर पर वे कहते हैं, "एक सच्चा मुसलमान तो जंगल में भी प्रार्थना कर सकता है, उसे बाबरी की जरूरत नहीं है लेकिन रामलला का स्थान राम मंदिर में है। यह हिंदुओं के लिए पवित्र स्थान है, इसमें कोई संदेह नहीं है कि वहां राम मंदिर का निर्माण किया जाना चाहिए। "

उन्होंने एक कदम आगे बढ़कर प्रस्ताव दिया कि भारतीय मुसलमानों को शाकाहारी हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने से बचना चाहिए। "प्राचीन काल में भोजन की कमी थी क्योंकि हम खेतीवारी नहीं कर सके, लेकिन अब हम कर सकते हैं, अतः मांस खाने की कोई जरूरत नहीं है। "मंसूरी समान नागरिक संहिता का भी समर्थन करते हैं और कहते हैं कि सभी नागरिकों पर एक समान कानून लागू होना चाहिए।

सीआई इसहाक, 65, सेवानिवृत्त प्रोफेसर, कोट्टायम, केरल

कोट्टायम के सीएमएस कॉलेज में इतिहास के 65 वर्षीय सेवानिवृत्त प्रोफेसर को अपने ईसाई और आरएसएस नेता होने के बीच कोई संघर्ष नहीं दिखता। इसहाक 1 9 75 में एबीवीपी में शामिल हो गए और फिर चर्च के पास प्रति रविवार को होने वाले संघ के एकत्रीकरण में सम्मिलित होना उनका नियमित क्रम बन गया ।

"मैं उनकी राष्ट्र और समाज के प्रति प्रतिबद्धता को देखकर आकर्षित हुआ। मुझे एहसास हुआ कि वे धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करने वालों की तुलना में अधिक धर्मनिरपेक्ष हैं | एक रविवार को, एक आरएसएस स्वयंसेवक ने मुझे मेरी प्रार्थना के लिए चर्च तक पहुंचाया। मेरी आस्था उनके लिए कोई समस्या नहीं थी। "

कोट्टायम में एक सक्रिय आरएसएस सदस्य सीआई इसहाक

इसहाक कहते हैं कि उनकी पत्नी भी संघ की सक्रिय सदस्य बन गई है। यह दंपति अपने खाली समय और सामाजिक कार्यक्रमों का उपयोग अपने समुदाय में आरएसएस की चर्चा के लिए करते हैं । "मैं अपने समुदाय के लोगों को उन मूल्यों के बारे में बताता हूं जिनके लिए आरएसएस काम करता है। मैं उन्हें बताता हूं कि ईसाई धर्म और हिंदू धर्म में कोई अंतर नहीं है - हम ईश्वर के एकत्व में विश्वास करते हैं। "

इसहाक का मानना है कि अयोध्या हिंदुओं का मक्का है और इसलिए उनका दृढ मत है कि उस स्थल पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए, "हिंदुओं को उनके पवित्र स्थल से वंचित नहीं किया जा सकता है।"

मुझे ये पसंद नहीं है कि हमें अल्पसंख्यक कहा जाये। हम सभी भारतीय हैं |

- सीआई इसहाक

इसहाक कहते हैं कि लिंग भेद समाप्त करने के लिए समान नागरिक संहिता को भारत में कार्यान्वित किया जाना चाहिए ।

आज के भारत में अल्पसंख्यकों की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर, इसहाक कहते हैं, "जब मुझे अल्पसंख्यक कहा जाता है तो मुझे अच्छा नहीं लगता । हम सभी भारतीय हैं, अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक का विभाजन क्यों ? सबके अधिकार महत्वपूर्ण हैं और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वे सबको मिलें । साथ ही, राष्ट्र हमें एक साथ लाता है और यही महत्वपूर्ण है। "

इसहाक पर्याप्त लंबे समय से आरएसएस से जुड़े हैं | यद्यपि वे संगठन में किसी शीर्ष पद पर कभी भी नियुक्त नहीं हुए, किन्तु उन्हें आशा है कि आने वाले 30 वर्षों में, भारत माता पर आस्था रखने वाला किसी अन्य समुदाय का व्यक्ति आरएसएस प्रमुख, सरसंघचालक बनेगा ।"

मोहम्मद अफजल, 56, व्यापारी, दिल्ली

अफजल अपने घर के एकमात्र आरएसएस सदस्य नहीं है। उनका विवाह संघ की महिला शाखा, राष्ट्र सेवा समिति की सदस्य शबाना अफजल, से हुआ है । उनके तीन बच्चे हैं और ये लोग दिल्ली के कश्मीरी गेट क्षेत्र में रहते हैं।

अफजल का आरएसएस की ओर झुकाव 1 9 60 में शुरू हुआ जब उनके स्कूल शिक्षक ने राष्ट्रवाद के गुणों के बारे में बात की। सिकंदर बख्त का प्रभावी भाषण सुनने के बाद 1 9 78 में वह जनसंघ में शामिल हुए। जब मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार ने उनके इलाके का दौरा किया, तब अफजल ने संघ स्वयंसेवक बनने का फैसला किया।

मोहम्मद अफजल, 30 से अधिक वर्षों से आरएसएस के सदस्य हैं |

अफजल को, मस्जिद में नमाज पढ़ने और आरएसएस की शाखा में प्रार्थना करने में कोई अंतर नहीं प्रतीत होता । वह दोनों करते है। हालांकि, उनके बच्चे अभी तक शाखा जाने हेतु प्रेरित नहीं हुए हैं ।

अफजल कहते हैं कि आरएसएस के साथ उनके सहयोग के कारण उनके समुदाय के लोग उनके विरोधी हो गए हैं । "मैं लोगों को बताता हूं कि आपको हिंदुत्व या हिंदू धर्म से डरना नहीं चाहिए क्योंकि ये तेज़ेब और संस्कृत के नाम हैं। मैं मुस्लिमों को राष्ट्र निर्माण के कार्य में सहभागी बनने के लिए प्रेरित करता हूं। "

मुसलमान भारत में अल्पसंख्यक नहीं हैं क्योंकि वे कहीं बाहर से नहीं आये हैं |

- मोहम्मद अफजल

अफजल का मानना ​​है कि अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए क्योंकि यह "हिंदुओं के लिए विश्वास की बात है। मुसलमानों को यह समझना चाहिए कि यह उनके लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल नहीं है। "

वह समान सिविल संहिता का समर्थन करते है और कहते हैं, "मुसलमान भारत में अल्पसंख्यक नहीं हैं क्योंकि वे बाहर से नहीं आये हैं"। अफजल यह भी मानते हैं कि भारतीय मुसलमानों को आगे बढ़ने के लिए आरक्षण की नहीं समान अवसर की जरूरत है ।

इनायत कुर्रेशी, 55, किसान, इंदौर

कुर्रेशी काव्यात्मक लहजे में उस दिन का वर्णन करते हैं, जब पांचवे सरसंघचालक के एस सुदर्शन उनके घर पहुंचे ।

"मेरे लिए वह एक अविस्मरणीय क्षण था, जब 2006 में सुदर्शनजी हमारे घर पधारे । ऐसा लग रहा था जैसे हमारे परिवार का कोई बुजुर्ग लंबे समय बाद हमारे घर आया हो । उन्होंने हमारे रसोई घर में खाना खाया और हमारे परिवार की महिलाओं को खाना पकाने के सुझाव दिए। ये आरएसएस का लोकाचार हैं और यही कारण है कि मुझे इसका सदस्य होने पर गर्व है । "

इनायत कुर्रेशी का परिवार 50 से अधिक वर्षों से आरएसएस के साथ जुड़ा हुआ है |

कुरैशी के पिता ने भी 50 से अधिक वर्षों तक आरएसएस के साथ काम किया, और उन्होंने ही इनायत को संगठन से परिचित कराया । और अब इनायत की बारी है, उनकी प्रेरणा से उनका बेटा 15 वर्ष की उम्र से ही पिछले आठ वर्षों से संघ की शाखाओं में भाग ले रहा है।

इस समय, कुरैशी परिवार के अधिकांश सदस्य हाजी हैं, अर्थात्, उन्होंने मक्का की तीर्थ यात्रा की है। इनायत कुर्रेशी भी स्थानीय मस्जिद समिति के सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएँ दे रहे हैं ।

"कुरान या हदीस में कुछ भी ऐसा नहीं है जो हमें शाखाओं में भाग लेने से रोकता हो । हम अपने धार्मिक ग्रंथों को बहुत अच्छी तरह जानते हैं हम दिन में पांच बार प्रार्थना करते हैं। और मुझे पता है कि आरएसएस ने हमें कितना सम्मान दिया है। "

अपने धार्मिक ग्रंथों का परिपूर्ण अध्ययन करने वाले कुरैशी का मानना है कि अयोध्या में विवादित स्थल पर मस्जिद कभी नहीं बनाई जा सकती। "इस्लाम ने मुसलमानों को किसी भी ऐसी जगह पर मस्जिद बनाने का निषेध किया, जहां धार्मिक विवाद है। आंतरिक राजनीति की वजह से यह पूरा विवाद चल रहा है। यदि मुस्लिम धार्मिक नेता वास्तव में अपने धर्म को जानते हैं, तो विवाद दो मिनट में खत्म हो सकता है। "

कुरान या हदीस में कुछ भी ऐसा नहीं है जो हमें शाखाओं में भाग लेने से रोकता है।

- इनायत कुर्रेशी

ट्रिपल तलाक के सवाल पर, कुरैशी का मानना है कि इस्लामी न्यायिक कानूनों को बदलने की कोई जरूरत नहीं है। "ट्रिपल तलाक को लोगों द्वारा ही ठुकराया जाना चाहिए । सामान्यतया, कुरान में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जो एक व्यक्ति को तुरंत तीन तलाक की अनुमति देता हो । लेकिन फिर भी मैं कहूंगा कि सार्वभौमिक कानून लागू करने की कोई जरूरत नहीं है। यह अनावश्यक हस्तक्षेप होगा। "

सौजन्य: समाचार 18