आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 18 May 2017 10:56:19

जब तक जीवित हो तब तक अपने और दूसरों के अनुभवों से सीखते रहना चाहिए. क्योंकि अनुभव सबसे बड़ा गुरु होता है.