सामाजिक व्यवस्था में समरसता एक श्रेष्ठ तत्व है-गुणवंत जी कोठारी

दिंनाक: 18 Jun 2017 11:20:22


आगरा। हमारे महापुरूषों ने भारतवर्ष की सृष्टि को समरसता के सूत्रों में हमेशा से एकीकृत करने का प्रयोग किया है और वर्तमान में इसका प्रकृतिकरण हमें देखाई देता है एक स्वयंसेवक के अनुशासन में। हमारा पड़ोसी किस जाति का है, किसान है या मजदूर, वकील है या डॉक्टर, छात्र है या व्यापारी, नौकरी करता है या बेरोजगार, धनी है या निर्धन, शिक्षित है या अशिक्षित, ये सब बातें उस समय गौण हो जाती हैं, जब हम सब भाई की भावना के साथ संघ के प्रशिक्षण वर्ग में प्रवेश करते हैं और भारत माता हम सबकी माता है, इस भाव से समाज में प्रवेश करते है। गुरूवार को कुछ इस प्रकार के मनोभावों के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, ब्रजप्रांत के 22 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग (प्रथम वर्ष सामान्य) का फतेहाबाद रोड स्थित कुंडौल ग्राम के स्प्रिंग फील्ड इंटर कालेज प्रांगण में समापन हो गया। 

समापन समारोह का संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अ.भा. सहसेवा प्रमुख गुणवंत जी कोठारी ने स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि संघ गत 92 वर्षो से समाज जीवन ने सभी क्षेत्रों में भारतीय जीवन मूल्यों को संबल देने, उनका संरक्षण करने तथा राष्ट्रीय एकता-अखंडता को मजबूती प्रदान करने का कार्य सहज रूप से कर रहा है। श्री कोठारी जी ने कहा कि चरित्र निर्माण के लिए शारीरिक परिश्रम बहुत आवश्यक है। व्यक्ति में आध्यात्मिक विषय के संस्कार होना भी आवश्यक है। संघ व्यक्ति के चरित्र का निर्माण करता है और जीवन की विषमता में भी जीने की कला सिखाता है। उन्होंने कहा कि संघ का कार्य आज भी देश की सीमाओं को लांघकर अंतर्राष्ट्रीय क्षितिज पर अपनी विशेष पहचान बनाने में समर्थ हुआ है। यह सब अपने देव-दुर्लभ कार्यकर्ताओं के बल पर हुआ है। ऐसे ध्येयनिष्ठ कार्यकर्ताओं का निर्माण संघ की दैनिन्दिन शाखा और प्रशिक्षण वर्गो में होता है। उन्होंने प्रशिक्षणार्थी स्वयंसेवकों से कहा कि समाज में समरसता व सेवा कार्यो के द्वारा राष्ट्र को उन्नति के शिखर पर पहुंचाने के कार्य में जुटें। क्योंकि सामाजिक व्यवस्था में समरसता एक श्रेष्ठ तत्व है। 

256 शिक्षार्थियों ने प्राप्त किया प्रशिक्षण 

कार्यक्रम की अध्यक्षता सेवा निवृत ब्रिगेडियर मनोज कुमार शर्मा ने की। वर्ग में आगरा, फिरोजाबाद व मैनपुरी के 256 शिक्षार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। समापन सत्र में शिक्षार्थियों ने दंड, योगाभ्यास, नियुद्ध, समता, खेल, विजय वाहिनी, सूर्य नमस्कार  और खेलकूदों का प्रदर्शन किया। समापन समारोह का मुख्य आकर्षण शिक्षार्थियों द्वारा प्रस्तुत घोष वाहिनी से निकले मधुर देशगान के स्वरों पर पथ संचलन रहा। 

इनकी रही उपस्थिति 

समापन कार्यक्रंम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ब्रजप्रांत प्रचारक डाॅ. हरीश जी, वर्ग पालक राजपाल जी, वर्गाधिकारी जयप्रकाश जी, प्रांत सह बौद्धिक प्रमुख सतीश जी, मुख्य शिक्षक सुनील जी, सह मुख्य शिक्षक ब्रजेश जी, विभाग प्रचारक हरीशंकर जी, व्यवस्था प्रमुख देवेंद्र जी, धर्मेंद्र जी, छत्रपाल जी, प्रदीप जी, देवंेद्र त्यागी, अरूण जी आदि उपस्थित रहे। संचालन सुनील जी, आभार देवेंद्र जी, वृत निवेदन वर्ग कार्यवाह संतोष जी ने किया।