हम प्राणी मात्र में एक ही आत्मा का भाव रखते हैं

दिंनाक: 05 Jun 2017 00:37:12

हरिद्वार (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद केंद्रीय मार्गदर्शक मण्डल की बैठक छुआछूत मुक्त भारत, समरस, समृद्ध तथा सबल हिन्दू समाज बनाने के संकल्प के साथ 1 जून प्रारम्भ हुई. उदासीन आश्रम में प्रारम्भ तीन दिवसीय बैठक के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द महाराज जी ने की. देशभर से आए सन्तों का स्वागत और बैठक की रूपरेखा प्रतिवेदन विहिप के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने किया. बैठक में देशभर से आए लगभग 250 संतों ने भाग लिया. त्रिदिवसीय बैठक में हिन्दू समाज से छुआछूत का निवारण, सामाजिक समरसता, गौ हत्या पर देशभर में प्रतिबंध तथा राम मंदिर के शीघ्र निर्माण सहित अन्य विषयों पर चर्चा हुई.

उद्घाटन सत्र में पहला प्रस्ताव सामाजिक समरसता यानि छुआछूत मुक्त भारत को लेकर स्वामी गोविंद गिरी महाराज ने रखा, जिसका अनुमोदन स्वामी ज्ञानानन्द महाराज, जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी कृष्णाचार्य महाराज, स्वामी रामशरणदास महाराज तथा स्वामी रामेश्वरदास वैष्णव ने किया. प्रस्ताव में कहा गया है कि हिन्दू परिवार में जन्मे हम सब भाई समान हैं, इस मत को क्रियान्वित कर हम छुआछूत, ऊँच-नीच से मुक्त समृद्ध, समरस तथा शक्तिशाली हिन्दू समाज के निर्माण का एक स्वर से संकल्प व्यक्त करते है. सन्तों ने कहा कि हिन्दू धर्म में छुआछूत को कभी सामाजिक मान्यता नहीं रही, हम प्राणी मात्र में एक ही आत्मा का भाव रखते हैं. इस नाते हम सब हिन्दू एक हैं. प्रस्ताव में हिन्दू समाज से अपेक्षा की गई कि हमारे मन्दिर घर तथा संस्थाएं सभी बन्धुओं के लिए खुलें, गांव में श्मशान, जल प्राप्त करने के स्थान सभी को उपलब्ध हों. सभी महापुरुषों की जयंती समाज के लोग एकत्र होकर मनाएं. हिन्दू परिवार मित्र योजना के अंतर्गत हर परिवार अनुसूचित जाति के एक परिवार को मित्र बनाकर आत्मीय बनाए. अष्टमी के दिन प्रत्येक माह सभी जाति की कन्याओं के साथ अनुसूचित जाति की कन्या को अवश्य बुलाएं. सन्त महात्मा अनुसूचित जाति तथा जनजाति बस्तियों में पद यात्रा, प्रवचन तथा सत्संग प्रारम्भ कर समरसता का निर्माण करें.

सन्तों का स्वागत विहिप के संगठन महामंत्री दिनेश चन्द जी, केंद्रीय मंत्री अशोक तिवारी जी, राजेन्द्र सिंह पंकज, कोटेश्वर राव, हरिशंकर, सुनील शर्मा, ईश्वरी प्रसाद, प्रांत मंत्री प्रदीप मिश्रा, राकेश बजरंगी, वीरेंद्र कीर्तिपाल, नितिन गौतम, ललित बजरंगी, सन्ध्या कौशिक आदि ने किया. बैठक संचालन केंद्रीय मंत्री जीवेश्वर मिश्रा ने किया. मार्गदर्शक मण्डल की बैठक में जगतगुरु रामानंदाचार्य रामधाराचार्य, महामंडलेश्वर अनुभूतानंद जी, महंत रामविलासदास वेदांती, महंत रविंद्र पूरी, श्री नरोत्तम स्वामी, स्वामी चिन्मयानन्द जी, स्वामी देवानंद जी महाराज, स्वामी जगन्नाथ दास (नेपाल) डॉ. स्वामी मुकुल दास, स्वामी युधिष्ठिर महाराज, श्री महंत रामकृष्ण दास, स्वामी गुरुपदानंद, बंधुगौरव गोस्वामी, श्रीमहंत फूलडोल बिहारीदास जी, स्वामी रामदेवानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर चित्प्रकाशनंद जी, संत स्वरूपानंद, साध्वी चंद्रकला, स्वामी जीवमुक्तानंदपुरी, स्वामी विवेकानंद, संत दिलीप सिंह नामधारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे.