अमेरिका में लहराया भारत का परचम

दिंनाक: 23 Jul 2017 15:34:41

देहरादून (विसंके)। पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने अंतरिक्ष संबंधी डिजाइन निर्माण प्रक्षेपण का खिताब जीतकर विश्व विजेता बनने का गौरव हासिल किया है। छात्रों ने यह प्रतियोगिता अंतिम दौर में पहुंची 40 टीमों को पछाड़कर जीती है। ये टीम भारत की पहली ऐसी टीम है, जिसने ये प्रतियोगिता पहली बार जीती है।

विवि के मीडिया निदेशक अरूण ढांड ने बताया कि अमेरिका के स्टीफनविल्ले टेक्सास स्थित तरलेटों विश्वविद्यालय में यूनिवर्सिटी आॅफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज (यूपीईएस) के छात्रों की टीम ने ‘‘केनसेट 2017’’ के लिए पंजीकरण किया था। विश्व के विभिन्न विवि व उच्च शिक्षा संस्थानों से 92 टीमों ने इस स्पर्धा में भागीदारी की। यह अंतरिक्ष संबंधी विषयों पर डिजाइन-निर्माण-प्रक्षेपण का सालाना मुकाबला था। जिसमें प्रारंभिक समीक्षा के बाद केवल 40 टीमें ही स्पर्धा के अंतिम दौर में पहुंची। प्रतियोगिता के दो महत्वपूर्ण चरण क्रिटिकल डिजाइन समीक्षा और उड़ान पूर्व समीक्षा रहे। अरूण ढ़ाड ने बताया कि केनसेट की शुरूआत वर्ष 1998 में हुई थी। प्रतियोगिता में टीमों को ऐसा सूक्ष्म उपग्रह बनाना था, जो की 66 एमएम व्यास व 115 एमएम ऊंचे एक सोडा केन में जा सके। उपग्रह एवं केन का मास 350 ग्राम से कम रखना होता था। इस प्रतिस्पर्धा का आयोजन अमेरिकन एस्ट्रोनाॅटिकल सोसाइटी और अमेरीकन एयरोनाॅटिकल व एस्ट्रोनाॅटिक्स संस्थाना नाशा जेट पाॅपुलेशन प्रयोगशाला आदि कराती है।

सभी टीमों द्वारा राॅकेट बारी-बारी से लांच किए गए। इस प्रतिस्पर्धा में उगुर गुवेन और जोजिमस डी लाबना, डा. सोमियाजी घोषाल, सोमचंद्र सावरकार, डा. पीयूश कुच्छल, डा. पीयूश दुआ का खासा सहयोग रहा है। इसके पश्चात पेट्रोलियम के छात्रों ने प्रतियोगिता को अपने नाम करते हुए तिरंगा लहराकर खुशी जताई। यूपीईएस विवि की ओर से कुल 23 विद्यार्थी शामिल थे। टीम का स्कोर 93.3 प्रतिशत रहा। इलेक्ट्रॅानिक्स इंजीनियररिंग से आकाश शर्मा, मीनाक्षी तलवार, आयुश अग्रहरी, प्रद्युम्मा नारायण तिवारी, राहुल राज, प्रतिशि राज, एरोस्पेस इंजीनियरिंग से अर्पित जैन, अरूण, विपुल, मनी, सुदर्शन पार्थ सारथी, पूजा दहिया, अनमोल अग्रवाल, मोनिका शर्मा, राघव गर्ग, विभोर, कविता वेणुगोपालन, देवऋषि दीक्षित, संदीप जंगीर, शामिल थे।