आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 27 Jul 2017 19:18:15

ब्रह्माण्ड कि सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं। वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है-स्वामी विवेकानंद