Todays expression

दिंनाक: 07 Jul 2017 23:05:32

जिस शिक्षा से हम अपना जीवन निर्माण कर सके, मनुष्य बन सके, चरित्र गठन कर सके और विचारो का सामंजस्य कर सके। वही वास्तव में शिक्षा कहलाने योग्य है-स्वामी विवेकानंद