आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 11 Aug 2017 23:40:01

विश्व एक व्यायामशाला है  जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं-स्वामी विवेकानंद