प्रवास का एक निश्चित उद्देश्य होता है-गोविन्द प्रसाद शर्मा

दिंनाक: 13 Aug 2017 13:16:25

विदिशा - विद्या भारती मध्यभारत प्रांत द्वारा आयोजित दो दिवसीय प्रान्तीय प्रवासी कार्यकर्ता कार्यशाला आज दिनाँक 12.08.17 को सरस्वती शिशु/विद्या मंदिर केशवनगर विदिशा में प्रारंभ हुई।

इस कार्यशाला में मुख्य वक्ता श्री गोविन्द प्रसाद शर्मा (राष्ट्रीय अध्यक्ष विद्या भारती) ने कहा कि - प्रवासी कार्यकर्ता के अनुभव हमें साझा करना है । इसलिए आप व हम यहां एकत्र हुए हैं । विद्या भारती का कार्य निरन्तर चल रहा है । जब हम सभी प्रवास करते हैं, तो प्रवास का एक निश्चित उद्देश्य होता है । शिक्षा समाज के अन्दर विद्या भारती को नेतृत्वकर्ता बनना है तो हमें स्वंय क्षमतावान, सामर्थ्यवान एवं योग्य बनना होगा । जब नेतृत्व क्षमता नहीं होती और हम नेतृत्व करते हैं तो दूसरे हमारा उपयोग करते हैं इससे दुःखद स्थिति बनती है । ऐसे में हमें पूर्ण रुप से सक्षम व समर्थ बनने के लिए प्रयत्न करना होगा। अपने विद्यालयों के विकास के लिए प्रवास करते समय हमारी दृष्टि ऐसी ही होनी चाहिए अर्थात् हमें अपना लक्ष्य स्पष्ट होना चाहिए।

हिन्दू मान्यताएं, हिन्दू विचार, हिन्दू जीवन पद्धति के मुताबिक हमें समाज को खडा करना हैं  अर्थात् हमारे विद्यालयों से निकलने वाले विद्यार्थी इन विचारों को स्थापित करने वाले बनने चाहिए। इसलिए हमारे विद्यालयों को अपने लक्ष्य के अनुरूप विकसित करना होगा। व्यवस्थाओं का संचालन हमारे लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में है कि नही, यह देखना होगा। प्रवासी कार्यकर्ता को यह सब बातें स्पष्ट होनी चाहिए ।

प्रारम्भ में इस कार्यशाला की प्रस्तावना रखते हुऐ श्री रामकुमार भावसार (प्रांत प्रमुख, नगरीय शिक्षा) ने कहा कि सम्पूर्ण देश में विद्याभारती द्वारा विद्यालय संचालित किए जा रहे हैं । अपने विद्यालयों को वर्तमान की आवश्यकता के अनुरुप और अधिक विकसित करने के लिए क्या-क्या  प्रयास किए जाऐं एवं नए-नए प्रयोग विद्यालयों मे हों इस पर विचार विमर्श करने के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है । हमारे विद्यालय समाज की मान्यताओं पर खरे उतरें एवं प्रतिमान स्थापित करें यह विचार करना चाहिए।

इस दो दिवसीय कार्यशाला के शुभारंभ अवसर पर श्री हितानंद शर्मा (प्रांतीय संगठन मंत्री विद्या भारती) , श्री किरीट नागड़ा (प्रांतीय उपाध्यक्ष ग्राम भारती समिति भोपाल) श्री प्रकाश बरतूनिया (प्रांतीय उपाध्यक्ष नगरीय शिक्षा भोपाल) की विशिष्ट उपस्थित रही। मध्यभारत प्रांत के 16 जिलों के लगभग 30 स्थानो से 150 कार्यकर्ता इस कार्यशाला में सम्मिलित हो रहे हैं।

कार्यशाला का संचालन श्री राजेन्द्र सिंह परमार(भोपाल) ने एवं स्वागत श्री महेन्द्र सिंह रघुवंशी, (विदिशा) , श्री मुकेश तिवारी (कुरवाई) ने किया । व्यक्तिगत गीत श्री विजय माथुर (भोपाल) द्वारा प्रस्तुत किया गया ।