आज के अभिव्यक्ति

दिंनाक: 17 Aug 2017 20:13:20

भगवान् की  एक  परम प्रिय  के  रूप  में  पूजा  की  जानी  चाहिए , इस  या  अगले जीवन  की  सभी  चीजों  से  बढ़कर-स्वामी विवेकानंद