चुनौतियों से सामना करना एक सच्चे साहित्यकार की पहचान

दिंनाक: 29 Aug 2017 20:38:12

जयपुर (विसंके)। अखिल भारतीय साहित्य परिषद, राजस्थान, जयपुर प्रांत के कार्यकर्ताओं का अभ्यास वर्ग कोटपूतली के मोरीजावाला धर्मशाला में सम्पन्न हुआ। साहित्य परिषद के संगठन मंत्री श्री विपिन चन्द्र ने सम्बोधित करते हुए कहा की आज देश और समाज में अनेक चुनौतियां हमारे सामने है, और इन चुनौतियों से सामाना करना एक सच्चे साहित्यकार की पहचान है। समय, काल और परिस्थित के अनुसार साहित्यकार को अपनी कलम का उपयोग करना चाहिए।

कोटपूतली में आयोजित इस अभ्यास वर्ग में जयपुर, दौसा, सीकर, भरतपुर सहित आठ स्थानों के 70 कार्यकर्त्ताओं ने भाग लिया। पांच अलग अलग सत्रों में संगठन की कार्य योजनाओं पर मंथन हुआ। कार्यक्रम में डॉ. मथुरेश नंदन कुलश्रेष्ठ, श्री बलवीर सिंह करुण, डॉ. अन्नाराम जी, डॉ. रविंद्र जी सहित कई वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का सानिध्य एवं मार्गदर्शन प्राप्त हुआ।