आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 03 Aug 2017 20:37:47

अगर धन दूसरों की भलाई  करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है-स्वामी विवेकानंद