राष्ट्रोदय में प्रत्येक ग्राम की सहभागिता होगी

दिंनाक: 01 Sep 2017 19:13:59

मेरठ (विसंकें). 25 फरवरी, 2018 को मेरठ के जागृति विहार विस्तार (एक्सटेंशन) में प्रस्तावित राष्ट्रोदय स्वयंसेवक समागम’ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी पूरा समय उपस्थित रहकर स्वयंसेवकों को सम्बोधित करेंगे. यह विश्व में किसी स्वयंसेवी संगठन की ओर से आयोजित सबसे बड़ा एकत्रीकरण होने वाला है. सबसे उल्लेखनीय बात यह है कि इसमें मेरठ प्रान्त (पश्चिम उत्तर प्रदेश) के सभी 10,580 ग्रामों से स्वयंसेवक पहुंचेंगे. शहरी क्षेत्रों की प्रत्येक बस्ती से भी उपस्थिति रहेगी. सभी स्वयंसेवक संघ के गणवेश (यूनीफार्म) में उपस्थित होंगे.

मेरठ प्रांत संघचालक सूर्यप्रकाश टॉक जी ने बताया कि प्रान्त को कुल मिलाकर 24,000 उपग्राम/उपबस्ती में बांटा गया है. इन सभी में सम्पर्क व शाखा विस्तार का सघन कार्यक्रम बनाया गया है. लक्ष्य 20,000 उपग्राम/उपबस्तियों को राष्ट्रोदय में सहभागी करना है. 01 सितम्बर से 20 सितम्बर के बीच शाखा विस्तार योजना में 5,745 विस्तारक पूरे प्रान्त में जाएंगे. इस सम्बन्ध में प्रान्त के सभी 25 जिलों में संघ एवं समस्त समविचारी संगठनों की समन्वय बैठकें 28 अगस्त तक सम्पन्न हो चुकी हैं. इन बैठकों में कुल 20,857 कार्यकर्ता उपस्थित रहे. अब तक 15,123 उपग्राम/उपबस्तियों में सम्पर्क कर लिये जाने की सूचना है.

विस्तारक शाखा – विस्तार के लिये जनसम्पर्क करते हुए जनसामान्य को चीनी सामान के बहिष्कार का संकल्प भी दिलाएंगे. इसके लिये एक संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर करवाए जाएंगे. इसके अतिरिक्त पर्यावरण के प्रति जागरुकता भी इस सम्पर्क का भाग है. दम तोड़ रही नदियों के दोनों ओर पर्याप्त चौड़ी हरित पट्टी विकसित करने की महती योजना है. सम्पूर्ण समाज को इस योजना हेतु प्रेरित किया जाएगा. इसमें वृक्षारोपण का विराट कार्य होना है. इस योजना के सूत्रधार तमिलनाडु के सद्गुरु जग्गी वासुदेव अपनी अखिल भारतीय यात्रा के क्रम में 01 अक्टूबर को अपने प्रान्त में होंगे. विस्तारक गण ग्राम-ग्रामबस्ती-बस्ती लाखों लोगों को वृक्षारोपण का संकल्प इसी बीच कराकर पौधे लगाने का काम शुरु करा चुके होंगे. विस्तारक समाज को स्वच्छता के लिये भी जागरुक बनाएंगे. 17 से 25 सितम्बर के बीच विशेष रूप से पूरे प्रान्त में स्वच्छता अभियान भी चलाया जाएगा.

वर्तमान में मेरठ प्रान्त में 2,917 दैनिक शाखाएं हैं. इनके अलावा लगभग एक हजार स्थानों पर साप्ताहिक मिलन तथा मासिक मंडलियां हैं. सितम्बर मास के उक्त शाखा-विस्तार अभियान में लगभग 2,000 नयी शाखाएं प्रारम्भ होने की आशा है.