भगवान श्रीराम, महराणा प्रताप, शिवाजी के साथ खड़ा रहा वनवासी समाज – सोमया जुल्लु जी

दिंनाक: 01 Jan 2018 14:55:59


भोपाल(विसंके). 28 दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक अखिल भारतीय कल्याण आश्रम द्वारा आयोजित 20वी राष्ट्रीय वनवासी खेल प्रतियोगिता  आयोजन का भव्य समापन हुआ.

भोपाल के कमला देवी पब्लिक स्कूल करोंद, में तीरन्दाजी व खो–खो प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ ब्जिसमे विजेताओं को समापन समारोह में ट्राफी प्रदान की गयी.
मुख्य वक्ता सोमया जुलू राष्ट्रीय संगठन मंत्री वनवासी कल्याण आश्रम में अपने संबोधन में वनवासी समाज के योगदान का राष्ट्र निर्माण में उल्लेखन करते हुए कहा की भगवान श्री राम, महाराणा प्रताप, शिवाजी के साथ वनवासी समाज खड़ा रहा तथा उनके साथ भारत माता की सेवा में सर्वस्य न्योछावर करने में वनवासी समाज पीछे  नहीं हटता, पूरे विश्व में पर्यावरण को लेकर समस्याओं उत्पन्न हो रही है उसका निवारण वनवासी समाज की जीवन शैली रहन सहन में छिपा है वनवासी कल्याण आश्रम वनांचल में निवासित खेल प्रतिभाओं को खोज कर उचित स्थान दिलाने में प्रयास रत है उसका उदहारण यहाँ देखने को मिल गया है.

मुख्य अतिथि श्री नंदकुमार साय ने अपने संबोधन में कहा की वनवासी समाज की पहचान सरलता, भोलापन, एवं इमानदारी के रूप में होती है कुछ लोग कहते है जनजाति समाज को मुख्या धारा से जोड़ा जाये तो पहले यह तो तय हो की मुख्य धारा क्या है वनवासी अंचल में जाने पर पर्यावरण की चिंता इस समाज को कितनी है देखा जा सकता है पेड़ों की पत्तियां साँझ ढलते ही हाँथ नहीं लगाते है कहते है पेड़ सो गए है वनवासी समाज वास्तवं में प्रकृति पूजक है शहरी करण व आधुनिकता के पीछे चलने वालों को वनवासियों से सीखना चाहिये.
मंत्री श्री लाल आर्य ने कहा की खेल में खिलाडी अकेला नहीं जीतता है उनके पीछे पूरा समाज व देश खड़ा होता है, यह भाव जागरण में वनवासी कल्याण आश्रम का प्रयास सराहनीय है.

समापन समारोह प्रस्तावना स्वागत समिति सचिव श्री गुमान सिंह डामोर ने राखी इस बीच तीरंदाजी का जहा खिलाडियों ने अतिथियों एवं नागरिकों के सामने प्रदर्शन किया जिसमे खूब सराहा गया.