हिन्दुकुश शब्द का अर्थ हिन्दुओ की सामूहिक हत्या का प्रतीक - सुरेश राने

दिंनाक: 11 Jan 2018 17:01:35


हिंदुकुश दो शब्दों से बना है, हिन्दु और कुश, कुश फारसी शब्द है जिसका अर्थ है हत्यारा जैसे खुदकुशी या आत्महत्या और खुदकुश का अर्थ होता है, आत्म हत्या करने वाला, गोकुशी अर्थात गौहत्या, गोकुश(गौहत्यारा). हिन्दुकुश शब्द कैसे और कब प्रचलित हुआ, यह जानने के लिये उस क्षेत्र के इतिहास और भूगोल की थोड़ी जानकारी प्राप्त करनी होगी.
           यह हिमालय का पश्चिमी भाग है, जो आज अफगानिस्तान और पाकिस्तान के अंतर्गत आता है. यह 800 कि.मी.लम्बा और 240 कि.मी.चौड़ा भूभाग है, यह  अनादि काल से हिन्दु और बौध्द संस्कृति का केन्द्र रहा है. इस क्षेत्र के पुरातन नाम कपीसा और गांधार थे तथा पर्वत श्रृंखला का नाम परियात्र पर्वत था. यहां चौथी शताब्दी से ग्यारहवीं तक शाही उपाधि धारक सम्राटों का शासन रहा, जिनकी 60 पीढ़ियों का उल्लेख इतिहास में मिलता है. शाही शब्द फारसी भाषा में ऐश्वर्य का प्रतीक बन गया, शहंशाही शब्द भी इसी से बना. अंतिम राजा आनन्दपाल शाही का शासन 1010 ई. तक रहा.  महमूद गजनवी ने उन्हे हरा कर इस्लामी राज्य स्थापित किया.

        हिन्दुकुश शब्द का उल्लेख पहली बार अरब(मोरक्कन) यात्री इब्न बतूता के यात्रा वृत्तांत रहल में 1355 में हुआ .यह शब्द कैसे चलन में आया, इस विषय में दो-तीन धारणायें है, जो हिन्दुओं के संहार की ओर ही इंगित करती हैं. पर किसी भूभाग का नामकरण किसी जाति के विनाश को सूचित करता हो, संसार में यह अकेला ही उदाहरण है. हम पिछले 700 साल से यह कलंक ढो रहे हैं, और इसके विस्तार की बाट जोह रहे हैं.

अफगान इतिहासकार खोन्डामिर के अनुसार भी हेरात के शहर पर मुस्लिमो के कई आक्रमणों में से एक के दौरान 15 लाख हिन्दुओ का सामूहिक नरसंहार किया गया था. इसी के कारण यहाँ के पर्वत श्रेणी को हिन्दुकुश नाम दिया गया, जिसका अर्थ है ‘हिन्दुओ का वध’ ताकि आने वाली पीढ़ी हिन्दुओं की हत्याकांड, दासता एवं अत्याचार को याद रखें.