राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय समन्वय बैठक प्रारंभ

दिंनाक: 04 Jan 2018 17:28:48


उज्जैन. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय समन्वय बैठक महाकाल मंदिर के समीप स्थित माधव सेवा न्यास के महाकाल भक्त निवास में बुधवार से प्रारंभ हो गई है, बैठक का समापन आज होगा. संघ की अखिल भारतीय समन्वय बैठक वर्ष में दो बार क्रमशः सितम्बर एवं जनवरी माह में होती है. इसी क्रम में यह बैठक हो रही है.

यह जानकारी देते हुए संघ के प्रचारक एवं अ.भा. प्रचार प्रमुख श्री मनमोहन जी वैध ने पत्रकारों से चर्चा की. चर्चा के दौरान संघ के मध्य क्षेत्र के क्षेत्र संघचालक श्री अशोक जी सोहनी भी उपस्थित थे. पत्रकारों से चर्चा करते हुए श्री वैध ने बताया कि संघ के प्रमुख कार्यकर्ता विभिन्न क्षेत्रों में संगठन का कार्य देखते हैं. उनके सतत प्रवास चलते हैं. प्रवास के दौरान नागरिक क्षेत्रों में लोगो से मिलते हैं. लोगों से प्राप्त जानकारियों को समग्र रूप से समन्वय बैठक में रखा जाता है. ऐसे सभी प्रकल्पों के कार्यकर्ताओं को समाज के बीच से जो अनुभव व सुझाव मिलते हैं, उनको इस बैठक में साझा किया जाता है. यही इस बैठक में होगा. इसमें कोई निर्णय नहीं लिया जाएगा.

आपने बताया कि संघ के विभिन्न संगठनों की अपनी-अपनी व्यवस्था है, उसी के अनुसार वे अपने निर्णय लेते हैं. समन्वय बैठक में चर्चा होकर विचार होता है तथा मार्गदर्शन मिलता है. आपने बताया कि आज समन्वय बैठक चलेगी और समापन 4 जनवरी को होगा. आपने बताया कि संघ के विविध संगठनों में से कुछ जनसंगठनों के पदाधिकारियों की यह बैठक हो रही है. इनमे से बैठक में मुख्य रूप से स्वदेशी जागरण मंच, विश्व हिन्दू परिषद्, भारतीय किसान संघ, वनवासी कल्याण परिषद्, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, भारतीय जनता पार्टी आदि जनसंगठन के कार्यकर्ता आये हुए हैं.

चर्चा में पत्रकारों के प्रश्नों के जवाब में आपने कहा कि संघ कार्य सतत चल रहा है. संघ का कार्य पिछले वर्षों में और अधिक बढ़ा है. वर्ष 2010  से इसमें निरंतर प्रगति होती जा रही है. आपने उदाहरण दिया कि वर्ष- 2016  में वर्षभर में ‘ज्वाइन आरएसएस’ में जितनी रिक्वेस्ट आईं, उसकी तुलना में वर्ष – 2017  में 45  प्रतिशत अधिक रिक्वेस्ट आई. जनवरी 15 से 6  माह में जहाँ 31  हजार 800  रिक्वेस्ट आईं वहीँ वर्ष 2016 के प्रथम माह में 47 हजार 300  रिक्वेस्ट आईं. वर्ष 2017  में 71 हजार 800 रिक्वेस्ट आईं. यह संघ की बढती स्वीकार्यता का प्रतीक है. आपने बताया कि बढ़ते हुए संघ कार्य को समझने के लिए जिला स्तर के कार्यकर्ताओं की क्षमता विकास हेतु कार्यकर्ता विकास वर्ग का आयोजन गत 4  वर्षों से चल रहा है. अब खंड स्तर  के कार्यकर्ता विकास वर्ग के आयोजन होंगे. स्वयंसेवकों की समाज परिवर्तन के कार्य में सक्रियता बढाने पर भी बल दिया जाएगा.