अभाविप छात्राऐं स्वयं बने आत्मनिर्भर मिशन साहसी के माध्यम से दिया प्रशिक्षण

दिंनाक: 30 Oct 2018 16:48:11


भोपाल(विसंके). अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विश्व का सबसे बड़ा छात्र संगठन है, जो शिक्षा के साथ छात्रों के संपूर्ण व्यक्तित्व विकास के लिए प्रतिज्ञाबद्ध है। वर्तमान में महिला सुरक्षा एक गंभीर मुद्दा बना हुआ है जिसे मद्देनजर रखते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने एक राष्ट्रव्यापी अभियान मिशन साहसी चलाया।

मिशन साहसी की शुरुआत पिछले वर्ष मुंबई महानगर से हुई जहाँ हजारों छात्राओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया था। चूंकि यह अभियान महिला सुरक्षा एवं छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आवश्यक है इस नाते विद्यार्थी परिषद ने संपूर्ण देश में इस अभियान को चलाने का निर्णय लिया।


अभियान के तहत पूरे देश में एकसाथ तहत 27ए 28 एवं 29 अक्टूबर को तीन चरणों में प्रशिक्षण दिया गया जिसका आज सामूहिक प्रदर्शन पूरे देश में एक साथ 30 अक्टूबर को किया गया मध्यभारत प्रांत के 34 जिलों में से 22 जिलों में 31169 छात्राओें ने 42 स्थानों पर सामूहिक रूप से मिशन साहसी के माध्यम से आत्मसुरक्षा का प्रशिक्षण का सामूहिक प्रदर्शन किया गाय। शेष 12 जिलों में कल दिनांक 31 अक्टूबर 2018 को प्रदर्शन कार्यक्रम किया जाना है।


 


अभाविप ने छात्राओं एवं महिलाओं पर बड़ते कुकृत्यों को मद्देनजर रखते हुए हमने हैं इस पहल को और प्रभावी ढंग से लिया। हम ने प्रदेश के अधिकतर महाविद्यालयों में पहुंच बना कर छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया है। भारत देश की छात्राएं कभी निर्बल की छात्राएं कभी निर्बल छात्राएं कभी निर्बल नहीं थी वह आत्मनिर्भर भी हैं और साहसी भी। हमने तो बस उन्हें उनके इस गुण का आभास कराया कराया का आभास कराया कराया है। मुझे विश्वास है कि उनका यह प्रशिक्षण विपरीत परिस्थितियो में उनके काम आएगा।