राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं लालबहादुर शास्त्री जी की जयंती आरोग्य धाम में मनायी गयी।

दिंनाक: 04 Oct 2018 17:21:19


भोपाल(विसंके). राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं लालबहादुर षास्त्री जी की जयंती आरोग्यधाम दीनदयाल शोध संस्थान चित्रकूट में प्राकृतिक चिकित्सा दिवस के रूप में मनायी जा रही है। वहीं पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती 25 सितम्बर से राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख की जयंती 11 अक्टूबर तक दीनदयाल शोध संस्थान स्वच्छता पखवाड़ा अभियान के रूप में मनायेगा। आज आरोग्यधाम में आयोजित मंचीय कार्यक्रम का शुभारंभ गांधी एवं शास्त्री जी के चित्रों के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन एवं सामूहिक पुष्पांजलि के साथ हुआ। आरोग्यधाम के प्राकृतिक चिकित्सा विभाग में 02 से 6 अक्टूबर तक आयोजित प्राकृतिक चिकित्सा शिविर में आकर महिला/पुरुष मिट्टी, जल, सूर्य चिकित्सा का लाभ ले सकते हैं। कार्यक्रम का संचालन करते हुये डा. विजय प्रताप सिंह ने कहा कि जो व्यक्ति जल, मिट्टी एवं सूर्य में काम करता है अर्थात प्रकृति के नजदीक रहता है, उसे जल, मिट्टी एवं सूर्य जैसी प्राकृतिक चिकित्सा की आवश्यकता ही नहीं पड़ती।


इस अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के सचिव डॉ. अशोक पाण्डेय ने राष्ट्रपिता के ग्राम स्वराज पर अपने विचार व्यक्त किये। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उत्तम वनर्जी ने कहा - देश में चलाये गये स्वच्छता अभियान से लोगों में अपने-अपने आस-पास के वातावरण को स्वच्छ बनाने में जागरूकता आयी। इससे देश में बीमारिओं में कमी होने के परिणाम आने प्रारंभ हो गये हैं। राष्ट्रपिता महात्मागांधी स्वच्छता में जागरूकता लाने पर जोर देते थे।



उल्लेखनीय है राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्राकृतिक चिकित्सा को अपनाते हुये आरोग्यधाम चित्रकूट में प्राकृतिक चिकित्सा विभाग स्थापित किया। इससे सम्पूर्ण देश के लोगों को आरोग्यधाम में प्राकृतिक चिकित्सा के माध्यम से स्वास्थ्य लाभ प्रदान किया जा रहा है। दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा आयोजित स्वच्छता पखवाड़ा के अन्तर्गत आज आरोग्यधाम में कार्यरत कार्यकर्ताओं ने निदान सदन के आस-पास स्वच्छता के लिये श्रमसाधना की। प्राकृतिक चिकित्सा दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्यधाम के सभी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।