आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 16 Nov 2018 13:24:51


जब तक तुम्‍हारें अन्‍दर दूसरों के, अवगुण ढूँढने या उनके दोष देखने, की आदत मौजूद है ईश्‍वर का साक्षात्कार, करना अत्‍यंत कठिन है


 - स्‍वामी रामतीर्थ