रिज मैदान पर 1300 छात्राओं का मेगा डेमॉन्स्ट्रेशन

दिंनाक: 02 Nov 2018 15:04:04


शिमला (विसंकें). अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के लिए मिशन साहसी चलाया गया है. इसी कड़ी में शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर मिशन साहसी का मेगा डेमॉन्स्ट्रेशन आयोजित किया गया. कार्यक्रम का शुभारंभ केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, भारतीय सेना से सेवानिवृत मेजर छवि सक्सेना, एस.पी. कुल्लू शालिनी अग्निहोत्री, उत्तर क्षेत्रय संगठन मंत्री विक्रांत खंडेवाल ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया.


विद्यार्थी परिषद के प्रदेशाध्यक्ष नितिन व्यास ने कहा कि मिशन साहसी के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश में 12 जिलों के 13 स्थानों पर करीब 8000 से अधिक छात्राओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया. मिशन साहसी का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं, युवतियों को सशक्त बनाना है. उनमें आत्मविश्वास, आत्मसम्मान व स्वावलम्बन की भावना जागृत हो.

बेटी के जन्म पर मनाएं उत्सव – स्मृति इरानी


मुख्यातिथि केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि समाज में फैली कुरीति भ्रूण हत्या को जड़ से मिटाकर बेटी के जन्म पर उत्सव मनाया जाना चाहिए. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा चलाए गए मिशन साहसी अभियान की सराहना की. उन्होंने कहा कि छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के साथ-साथ उनके अधिकार व कानून संबधी जानकारी देने हेतु भी शिविर लगाए जाने चाहिएं. छात्राओं का आह्वान किया कि वह अन्य छात्राओं को भी आत्मरक्षा के गुर सिखाएं, ताकि आवश्यकता पड़ने पर वे अपनी सुरक्षा कर सकें.


उत्तर क्षेत्र संगठन मंत्री विक्रांत खंडेवाल ने कहा कि आज समाज में उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए नारी शक्ति को आत्मनिर्भर बनाने की जरूरत है. नारी में साहस का भाव जागृत होने उनका भय दूर होगा और उसे समाज में फैली विकृतियों से लड़ने की शक्ति मिलेगी.


कार्यक्रम में विशेष रूप से उपस्थित सेवानिवृत मेजर छवि सक्सेना ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अभियान को प्रशंसनीय बताया. उन्होंने कहा कि यदि मन में दृढ़ निश्चय हो तो कुछ भी असंभव नहीं. उन्होंने जीत के लिए नेतृत्व क्षमता पर बल दिया. एस.पी. कुल्लू शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि तन की प्रबलता के साथ-साथ मन की प्रबलता भी आवश्यक है. यदि मन व मस्तिष्क साहसी होगा, तभी हम जीवन में आने वाली कठिनाईयों का सामना कर पाएंगे.