आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 26 Nov 2018 14:47:56


भगवान् है लेकिन बस एक, उसका नाम सत्य है, वही निर्माता है, वह किसी से डरता नहीं है, उसके अंदर घृणा नहीं है, वह कभी नहीं मरता है, वह जन्म और मृत्यु के चक्र से परे है, वह स्वयं प्रकाशित है, उसे सच्चे गुरु की दयालुता के माध्यम से अनुभव किया जा सकता है.                                            


 

-   श्री गुरुनानक देव