आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 19 Dec 2018 16:33:50


संसार में जितने भी महँ पुरुष हुए हैं, उनमें से अधिकतर ब्रह्मचर्यं के प्रताप से ही बने हैं |


और सैकड़ों-हजारों वर्षों बाद भी उनका यशोगान करके मनुष्य अपने आपको कृतार्थ करते हैं |
ब्रह्मचर्यं की महिमा यदि जाननी हो तो परशुराम, राम, लक्ष्मण, कृष्ण, भीष्म, बंदा वैरागी, राम कृष्ण, महर्षि दयानंद, विवेकानंद तथा राममूर्ति की जीवनियों का अवश्य अध्ययन करें |

  • शहीद रामप्रसाद बिस्मिल