20 दिसंबर 1968 - पुण्यतिथि / क्रांतिकारी बाबा सोहन सिंह भकना

दिंनाक: 20 Dec 2018 14:54:43


बाबा सोहन सिंह भकना ( जन्म- जनवरी, 1870, अमृतसर; मृत्यु- 20 दिसम्बर, 1968) भारत की आज़ादी के लिए संघर्षरत क्रांतिकारियों में से एक थे। वे अमेरिका में गठित ‘ग़दर पार्टी’ के प्रसिद्ध नेता थे। लाला हरदयाल ने अमेरिका में ‘पैसिफ़िक कोस्ट हिन्दी एसोसियेशन’ नाम की एक संस्था बनाई थी, जिसका अध्यक्ष सोहन सिंह भकना को बनाया गया था। इसी संस्था के द्वारा ‘गदर’ नामक समाचार पत्र भी निकाला गया और इसी के नाम पर आगे चलकर संस्था का नाम भी ‘ग़दर पार्टी’ रखा गया।


भारतीय सेना की कुछ टुकड़ियों को क्रांति में भाग लेने के तैयार किया गया था। किन्तु मुखबिरों और कुछ देशद्रोहियों द्धारा भेद खोल देने से यह सारा किया धरा बेकार गया। बाबा सोहन सिंह भकना एक अन्य जहाज़ से कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) पहुँचे थे। 13 अक्टूबर, 1914 ई. को उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया। यहाँ से उन्हें पूछताछ के लिए लाहौर जेल भेज दिया गया। इन सब क्रांतिकारियों पर लाहौर में मुकदमा चलाया गया, जो ‘प्रथम लाहौर षड़यंत्र केस’ के नाम से प्रसिद्ध है।  बाबा सोहन सिंह को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई और उन्हें अंडमान भेज दिया गया। वहाँ से वे कोयम्बटूर और भखदा जेल भेजे गए। उस समय यहाँ महात्मा गाँधी भी बंद थे। फिर वे लाहौर जेल ले जाए गए। इस दौरान उन्होंने एक लम्बे समय तक यातनापूर्ण जीवन व्यतीत किया।

16 वर्ष जेल मे बिताने पर भी अंग्रेज़ सरकार का इरादा उन्हें जेल में ही सड़ा ड़ालने का था। इस पर बाबा सोहन सिंह ने अनशन आरम्भ कर दिया। इससे उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगा। यह देखकर अततः अंग्रेज़ी सरकार ने उन्हें गिहा कर दिया। द्वितीय विश्व युद्ध आंरभ होने पर सरकार ने उन्हें फिर गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन सन 1943 में रिहा कर दिया। 20 दिसम्बर, 1968 को बाबा सोहन सिंह भकना का देहांत हो गया।