जो साहित्यकार होते हैं वह संवेदनशील होते हैं : कटनी पुस्तक मेला

दिंनाक: 21 Dec 2018 19:08:30


भोपाल(विसंके). "जो साहित्यकार होता है और जो सृजन कार होते हैं वह संवेदनशील होते हैं उनके मन में मानव कल्याण की भावना होती है पुस्तक मेला में पधारे मुख्य अतिथि  विपिन बिहारी  व्यवहार ने अपने उद्गार में कहा साथ ही उन्होंने कहा की मैं अपने आप को गौरवशाली मानता हूं कि मैं कटनी जिले का पुत्र हूं मेरा पान उमरिया  में जन्म हुआ इसलिए मैं मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग का अध्यक्ष के पद पर आज तक पहुंच पाया हूं" कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में श्रीमान किशोर बगड़िया जी ने कहा की पुस्तक मेला का 9 वाँ वर्ष है , पुस्तक में लिखा है उसमें कोई बदलाव नहीं हो सकता उसका तथ्य सही होता है लेकिन मोबाइल में बच्चे तथ्य ढूंढते हैं तो वह बदल भी जाता है जिससे बच्चे भ्रमित हो जाते हैं इसलिए पुस्तके बच्चो  को जरूर पढ़ना चाहिए पुस्तक से उनका ज्ञान वर्धन भी होता है,  विशिष्ट अतिथि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार लाल ने कहा कि उनकी रुचि बच्चों से अपने अनुभव साझा करने में अच्छा लगता है क्योंकि वह देश की धरोहर बच्चों में अपना अनुभव ज्यादा से ज्यादा बांटना चाहते हैं उन्होंने पुस्तक मेला की सराहना भी की मनीष गई एवं समाजसेवी भी मौजूद रहे उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा मेला की टीम में 125 लोगों की टीम लगी हुई है जिसे आयोजन हो रहा है वह तो सफल होगी पुस्तक मेला से अवश्य कटनी का नाम देश भर में लिया जाने लगा कार्यक्रम के बीच में खेल खेल में गणित सीखें पुस्तक का विमोचन  किया गया पुस्तक मेला संयोजक अरुण सोनी ने पुस्तक मेला  पर अनुभव साझा किए उन्होंने कहा कि पिछले 8 वर्षों की यात्रा में जो उतार चढ़ाव रहे समिति के सदस्यों और शहर की जनता के सहयोग से यह आयोजन सफलतापूर्वक 9वें वर्ष में प्रवेश पा सका है |


लोवे पुस्तक मेले कार्यक्रम का प्रारंभ मां भारती व सरस्वती जी के समक्ष माल्यार्पण ,दीप प्रज्वलन एवं सरस्वती वंदना के साथ किया गया  । यह कार्यक्रम का आयोजन साधुराम विद्यालय प्रांगण में किया जा रहा है |

 


9वें वर्ष की पुस्तक मेला एवम साहित्य महोत्सव में 50 स्टॉल लगाए गए है जिसमे देश की प्रमुख संस्थानों ने अपनी सहभागिता की है। संपूर्ण कार्यक्रम का संचालन आशीष गुप्ता बाबा ने किया आभार प्रदर्शन डॉक्टर जैनेंद्र द्विवेदी द्वारा किया गया कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नगर के प्रबुद्ध जन एवं माताओं बहनों की उपस्थिति रही। पुस्तक मेले के दूसरे दिन दिनांक 22 दिसंबर को बाल साहित्य महोत्सव का उद्घाटन प्रातः 10:30 बजे ख्याति प्राप्त साहित्यकार श्री कृष्ण कुमार अस्थाना जी द्वारा किया जावेगा इस कार्यक्रम में संपूर्ण भारतवर्ष से अनेक साहित्यकारों की उपस्थिति रहने वाली है साथ ही बच्चों की अनेक प्रतियोगिताओं का आयोजन भी किया जाना है संपूर्ण मेला समिति द्वारा नगर की जनता से सभी आयोजनों में अधिक से अधिक संख्या में परिवार सहित उपस्थिति का आग्रह किया है |