आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 24 Dec 2018 15:37:15


शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु हैं । विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु हैं । प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु हैं


  • - स्वामी विवेकानंद