छात्र-छात्राओं की मनमोहक प्रतुतियों के साथ शारदा विहार में वार्षिक उत्सव संपन्न

दिंनाक: 26 Dec 2018 18:03:27


भोपाल(विसंके). शारदा विहार में आज हर साल की भांति इस वर्ष भी वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यालय के भैया-बहिन ने रंगारंग प्रस्तुतियाँ पेश की। इस मौके पर विद्यालय के पूर्व छात्र-छात्राओं के अभिभावक भी इसमें सम्मिलित हुए। कार्यक्रम का संचालन शारदा विहार के प्रबंध सहायक अंनत संत ने किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री डॉ. भागीरथ कुमावत माध्यमिक शिक्षा मंडल के पूर्व उपाध्यक्ष और विद्या भारती के पूर्णकालिक कार्यकर्ता, माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल के रजिस्ट्रार श्री मुकेश मालवीय और शारदा विहार के प्रबंधक श्री अजय शिवहरे ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। जिसके उंपरात गणेश वंदना हुई।


कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने बड़ी भली है अम्मा मेरी, मै परियों की सहजादी में आसमा से आई हूँ,  नन्हें है नन्हें सा, नानी तेरी मोरनी को मोर ले गया, आरंभ है प्रचण्ड, औ री चिरैया, पगड़ी संभाल ओ जट्टा गानों पर छात्रों ने मनमोहक प्रस्तुतियां पेश की, इसके अलावा स्वच्छता नाटक और छात्राओं ने गरबा नृत्य भी पेश किया।  छात्र ने आदिवासी लोकनृत्य, घार्मिक, राजस्थानी, कर्नाटक, माराठी और क्षेत्रीय जैसे गानों पर समा बांधा। कार्यक्रम में आए आभिभावकों ने छात्रों द्वारा दी गई प्रस्तुती को देखते ही रह गए। 
कार्यक्रम में आए मुख्य आतिथि श्री डॉ. भागीरथ कुमावत माध्यमिक शिक्षा मंडल के पूर्व उपाध्यक्ष और विद्या भारती के पूर्णकालिक कार्यकर्ता कहा कि शारदा विहार में हर के भाति इस वर्ष भी वार्षिक उत्सव का आयोजन बड़े ही उत्सह पूर्वक मनाया। उन्होंने आगे कहा कि यह आकार और यह कार्यक्रम को देखकर मुझे अपने स्कूल के समय की याद आ गई कि जब हम स्कूल में पढ़ते थे तो उस समय भी इसी प्रकार से बार्षिक उत्सव मानया जाता था। शारदा विहार में विभिन्न प्रांतों से आए बालकों में जिस तरह एकजुटता दिखती है उससे यह महसूस होता है जिसके यहा एक परिवार का हिस्सा हो। उन्होंने आगे कहा कि मै यह के प्रबंधन और टीचरों की सरहाना करता हूँ कि वह यहां के छात्रों में इस प्रकार के संस्कार डालें है। यह स्वभाव समाज में एक विशेष परिवर्तन और भारत को शिरमोर बनाना इस ओर अग्रसर करता है।
कार्यक्रम में शारदा विहार के प्रबंधक श्री अजय शिवहरे जी ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी शारदा विहार में वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यालय के भैया-वहिनों ने अपनी कला का जो प्रदर्शन किया है वह देखने लायक है।