एक लाख लोग बनेंगे हिन्दू सम्मेलन के साक्षी, स्वागत के लिए तैयार नगरवासी

दिंनाक: 17 Feb 2018 19:05:36


भोपाल(विसंके). 18 फरवरी रविवार का दिन श्योपुर जिलेवासियों के लिए एक ऐतिहासिक दिन बनने जा रहा है। जिसकी पूरी तैयारी हिन्दू सम्मेलन आयोजित समिति द्वारा की कर ली गई है। पिछले तीन माह की मेहनत के बाद अब वो दिन आ गया है, जिसकी जिलेवासी कल्पना कर रहे थे। श्योपुर जिले में पहली बार एक लाख के करीब संख्या में हिन्दू समाज के लोग परस्पर समरसता दिखाते हुए एक साथ, एक स्थान पर एकत्रित होकर इस आयोजन के साक्षी बनेंगे। हिन्दू सम्मेलन के इस भव्य आयोजन को लेकर नगरवासी भी पूर्ण उत्साहित है। नगरवासियों ने हिन्दू सम्मेलन की तैयारियों को भी ऐतिहासिक बनाने की दृष्टि से स्वागत-सत्कार की विशेष तैयारियां की जा रही है।
कल 18 फरवरी का दिन हिन्दू समाज के लिए किसी उत्सव से कम नहीं होगा। आयोजन समिति द्वारा हिन्दू सम्मेलन की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है। आयोजन के लिए जहां मंच पूरी तरह सजकर तैयार हो चुका है, वहीं नगरवासियों ने भी शोभायात्रा और कलश यात्रा के भव्य स्वागत की तैयारियां शुरू कर दी है।

मालूम हो कि, हिन्दू सम्मेलन आयोजन समिति के तत्वाधान में आयोजित होने जा रहे हिन्दू सम्मेलन की तैयारियों के लिए जिले भर में कार्यकर्तागण पिछले तीन माह से पूरी मेहनत और लगन के साथ आयोजन की सफलता के लिए कार्य कर रहे हैं।

भोजन-पानी की व्यवस्था साथ वाहनों की संख्या होगी दर्ज

हिन्दू सम्मेलन में भागीदारी करने ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों को भोजन की व्यवस्था शहर से बाहर ही रखी गई है। इसके अलावा भोजन के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों एवं वाहनों की संख्या को दर्ज किया जाएगा। भोजन व्यवस्था के लिए नगर से बाहर सात स्थानों का चुनाव किया गया है। जिनमें गोरस, पोहरी, जाटखेड़ा, माणक ग्रीन पैलेस, महादेव फैक्ट्री बड़ौदा रोड, रिलायंस पेट्रोल पंप को पाइंट बनाया गया है। हिन्दू सम्मेलन आयोजन समिति द्वारा भोजन के साथ-साथ पानी की भी व्यवस्था की जायेगी।

कलश यात्रा के 10 स्थानों पर महिला एकत्रीकरण
कलश यात्राओं के लिए महिला एकत्रीकरण के लिए 10 स्थानों का चयन किया गया है, जिसमें पाली रोड पीली कोठी से शुरू होने वाली कलश यात्रा हेतु महिला एकत्रीकरण के लिए खरंजा रोड शिव मंदिर, खुलीखुली माता, ब्लॉक कालोनी गेट, पटेल चौक शामिल है। पुल दरवाजा से निकले वाली कलश यात्रा के लिए पुल दरवाजे के पास चिंतहरण हनुमान मंदिर, टोडी गणेश मंदिर, चौपड़ गणेश जी मैन चौराहा, मंशापूर्ण हनुमान मंदिर सब्जी मण्डी, नगर पालिका के सामने खेड़ा पति, रामतलाई हनुमान मंदिर रखे गए हैं।

हिन्दू सम्मेलन की सफलता के लिए आज घर-घर में जलाए जायेंगे दीप

हिन्दू सम्मेलन आयोजन समिति के तत्वाधान में हिन्दू सम्मेलन से एक दिन पूर्व आज प्रत्येक गांव के हर घर में दीप जलाकर हिन्दू सम्मेलन के सफल आयोजन की कामना की जाएगी।

इस तरह होगा हिन्दू सम्मेलन का मुख्य कार्यक्रम

प्रथम नृत्य, द्वितीय नृत्य, योग पिरामिड, कवि सम्मेलन, संत सम्मान, इसके बाद अतिथि का आगमन दोपहर 2 बजे से होगा। इसके बाद अतिथियों का परिचय, कार्यक्रम की भूमिका, परम पूज्य उत्तम स्वामी के आर्शीवचन, मुख्य अतिथि विजेन्द्र कुमार का उदबोधन, मुख्य वक्ता सुरेश जी सोनी का उदबोधन व समरसता संकल्प, अंत में आभार प्रदर्शन हिन्दू सम्मेलन आयोजन समिति के सचिव नरेन्द्र मीणा द्वारा किया जाएगा।

समाजों ने की 60 हजार भोजन पैकेट की व्यवस्था

हिन्दू सम्मेलन में आने वाले लोगों को भोजन कराने की जिम्मेदारी सभी समाजों ने उठाते हुए 60 हजार भोजन के पैकेट की व्यवस्था कर दी है। इसके अलावा भोजन की व्यवस्था आयोजन समिति की ओर से की जा रही है।

इन प्रयासों के बाद यहां पहुंचा हिन्दू सम्मेलन

-29 अक्टूबर को हिन्दू सम्मेलन आयोजन का औपचारिक उदघाटन हुआ। जिसमें 347 ग्रामों के 3100 लोगों ने भाग लिया।

- 38 मंडल बनाए गए जिनमें लगभग 850 गांवों मे से अधिकांश गांवों में बैठक हुई।

- ग्रामीण क्षेत्रों में हिन्दू सम्मेलन का प्रचार-प्रसार करने के लिए 16 आयाम व 200 विस्तारक बनाए गए।

- सभी मण्डल स्तरों पर कबड्डी प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ, कबड्डी प्रतियोगिताओं में जिले की 300 टीमों ने भाग लिया।

- मण्डल स्तरों पर स्वास्थ परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। 18000 लोगों ने स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का लाभ लिया।

- नेत्र परीक्षण शिविर में 85 लोगों के सफल ऑपरेशन कर आंखों को नई रोशनी प्रदान की गई।

- गौ सेवा आयाम के अन्तर्गत तीन स्थानों पर दो दिवसीय गौ-कथा का आायोजन किया गया।

- गौ-पालकों के सम्मान के लिए 6 दिवसीय गौ-पालक सम्मान यात्रा ने 48 गांवों का भ्रमण कर 1500 गौ-पालकों को शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया गया।

- लोगों को हिन्दू सम्मेलन से जोडऩे के लिए गांव-गांव सघन जनम्पर्क कर लोगों के पंजीयन किए गए। नगरीय केन्द्रों पर पंजीयन का कार्य 16 जनवरी और मण्डल स्तर पर पंजीयन का कार्य 18 जनवरी से प्रारंभ किया गया।

- मण्डल स्तर पर सावित्रीबाई फूले की जयंती अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किए गए।

- हिन्दू सम्मेलन में सहयोग के लिए 45 समाजों के साथ हुई बैठकें।

- सभी मण्डल स्तर पर भारत माता की महाआरती और धर्मसभाओं का आयोजन किया गया।

- समाचार पत्रों के साथ-साथ सोशल मीडिया भी हिन्दू सम्मेलन के प्रचार-प्रसार में बेहतर माध्यम साबित हुआ।

- 4 फरवरी को हिन्दू सम्मेलन के लिए चिन्हित किए गए आयोजन स्थल वीर सावरकर स्टेडियम पर भूमिपूजन किया गया।

ये है हिन्दू सम्मेलन में खास...

-बोहरा समाज के लोगों ने हिन्दू सम्मेलन में हर संभव सहयोग करने का आश्वासन दिया है।

- मंच को प्रदूषण रहित बनाकर वातावरण के अनुकूल बनाने के लिए लकड़ी, गोबर, कागज, लाल मिट्टी का उपयेाग किया गया वहीं मंच को आदिवासी संस्कृति के तहत स्वरूप प्रदान किया गया है।

- ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले लोगों के लिए नगर में नौ स्थानों पर पार्किंग व्यवस्था रखी गई है। जबकि अतिथि की पार्किंग व्यवस्था मंच के पिछले हिस्से में रखी गई है।

- यातायात व्यवस्था में परिवर्तन कतरे हुए भारी वाहनों का रूट में परिवर्तन किया गया है।

- हिन्दू सम्मेलन के आयोजन स्थल को 13 ब्लॉकों में बांटा गया है। जिसमें चार ब्लॉक अतिथियों, पत्रकारों के लिए, जबकि दो ब्लॉक मात्र शक्ति आयाम के लिए आरक्षित किए गए हैं।

ये है हिन्दू सम्मेलन का उद्देश्य...

- गौमाता का संरक्षण एवं संवर्धन

- सभी समाजों के बीच छुआछूत को दूर करना

- सामाजिक समरसता को बढ़ावा देना

- संयुक्त परिवार वाली भारतीय संस्कृति को बढ़ावा

- परिवारिक जीवन मूल्यों को बचाने के लिए

- पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, समग्र स्वच्छता को बढ़ावा देना

- हिन्दी भाषा को बढ़ावा देना

- मातृशक्ति की रक्षा एवं मातृशक्ति का जागरण करना

- युवाओं में देशभक्ति का जागरण कराना

- युवाओं को दुरव्यसनों से मुक्त करने के लिए