आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 22 Feb 2018 16:46:29


आप इस भ्रम में न रहें कि लोग हमारी ओर नहीं देखते. वे हमारे कार्य तथा हमारी व्यक्तिगत आचरणों की ओर आलोचनात्मक दृष्टि से देखा करते है. इसीलिए केवल व्यक्तिगत चाल-चलन की दृष्टि से सावधानी बरतने से काम नहीं चलेगा, अपितु सामूहिक एवं सार्वजनिक जीवन में भी हमारा व्यवहार हमें उद्दात रखना होगा.


                                डॉ. केशव बलीराम हेडगेवार जी