अनेक रोगों में लाभदायक : गाजर

दिंनाक: 28 Mar 2018 18:00:12


भोपाल(विसंके). इस मौसम में गाजर प्रायः सभी जगह पाई जाती है. आमतौर पर सलाद व सब्जी के रूप में प्रयोग होने वाला गाजर औषधीय गुणों का भंडार है, रोगों कें आक्रमण से रक्षा तथा बीमारियों से सुरक्षित रखना, गाजर का अपना एक विशेष गुण है. गाजर में प्रोटीन की अल्प मात्रा होने पर भी पूर्ण आहार के तत्व इसमें पाये जाते हैं. सौ ग्राम गाजर में पानी 86.0 मि.ग्राम, प्रोटीन 0.2 मि.ग्राम, कार्बोहाइड्रेट  10.6 मि.ग्राम, तन्तु 1.2 मि.ग्राम, विटामिन ‘ए‘ 3.150 आई.यू., सल्फर 29.0 मि.ग्राम और क्लोरीन 13.0 मि.ग्रा. होता है.

कैल्शियम, वसा, लौह तत्व के अलावा कैरोटीन और विटामिन ‘बी‘  भी पाये जाते हैं. गाजर में मौजूद विटामिन ‘ई‘ से स्त्री-पुरूष में शारीरिक शक्ति, अधिक आयु तक बनी रहती है. विटामिन ‘ई‘ कैंसर से भी शरीर की रक्षा करता है. फोलिक अम्ल, पोटेशियम, सोडियम, मैग्नेशियम कॉपर, पाइरोडॉक्सिन आदि तत्व भी पाये जाते हैं. गाजर में विटामिन ‘ए‘  अधिक होता है. अतः जिनके शरीर में विटामिन ‘ए‘ की कमी हो उन्हें गाजर का नियमित सेवन करना चाहिए.

गाजर का औषधीय उपयोग

हृदय रोगः- साफ-सुथरी गाजर लेकर उसे भाप में पकाएं. फिर उसका सौ ग्राम रस निकाल कर उसमें 20 ग्राम मिश्री मिलाकर पीने से हृदय के दर्द से छुरकारा मिलता है. प्रतिदिन आधा गिलास गाजर कर रस, दो चम्मच नीबू का रस तथा थोड़ा-सा शुद्ध शहद मिलाकर पीने से हृदय रोग में आराम पहुंचता है और आंखों की रोशनी भी बढती है. भूनी हुई गाजार का रस, गुलाब जल, मिश्री या अर्क केवडा मिलाकर सेवन करने से हृदय की दुर्बलता दूर होती है. 

पेट की गैस:-

पेट में गैस हो, पेट फूला हो या दर्द हो रहा हो तो प्याज के रस में रत्ती हरड का चूर्ण डालकर सेवन करें. तुरन्त आराम मिलेगा. गाजर के रस में एक चम्मच मूली कर रस, जरा-सी हींग, चार काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर पीने से पेट की गैस से राहत मिलती है.

पेचिशः-

पेचिश रोग में शौच करते समय या उससे पहले अंतडियों में ऐंठन तथा दर्द होता है इसके बाद पतला पखाना आता है. इस रोग में गाजर के थोडे से रस में इंद्र जौ का चूर्ण दो चुटकी मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है. गाजर के रस में बेल कर मुरब्बा मिलाकर खाने से पेचिश रोग में लाभ होता है.

गुर्दे की पथरी:- गुर्दे में दर्द पथरी के कारण हो रहा हो तो गाजर तथा नारियल का पानी दोनों एक-एक कप मिलाकर उसमें यवक्षार मिलाकर पियें इससे कुछ ही दिनों में पथरी गलकर निकल जाती है.

खून की कमी:- शरीर में खून की कमी होने पर एक कप गाजर के रस में आधा-आधा कप चुकन्दर तथा पालक का रस मिलाकर दिन में तीन-चार  बार पीने से खून की कमी दूर होती है.