आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 28 Mar 2018 18:14:51


छोटी-छोटी बातों को नित्य ध्यान रखें बूंद-बूंद मिलकर ही बड़ा जलाशय बनता है. एक-एक त्रुटी मिलकर ही बड़ी-बड़ी गलतियां होती है. इसलिए शाखाओं में जो शिक्षा मिलती है, उसके किसी भी अंश को नगण्य अथवा कम महत्व का नहीं मानना चाहिए.

    - परम पूजनीय गुरु जी