डायबिटीज की खास औषधि गिलोय

दिंनाक: 31 Mar 2018 15:47:29


भोपाल(विसंके). गिलोय ऐसी वनस्पति है जो कि सर्वत्र भारतवर्ष में पैदा होती है और बेल रूप् में अब तो हर घर में लगाई भी जा रही है. क्योंकि डेंगू बुखार में इसके लाभ अद्भुत व रामबाण हैं, लेकिन डायबिटीज/शुगर कन्ट्रोल में यह सबसे उपयोगी जडीबुटी है, जिसका कोई तोड नहीं, शुगर की प्रत्येक दवा में इसका प्रयोग जरूरी होता है.


आइऐ जानें इसके औषधीय गुण को:-

वर्षाकाल में यह बेल सर्वत्र, पैदा होती है और खूब फैलती भी है, इसका एक नाम गुडूची भी है. इस लता का तना व पत्ते औषधि रूप् में प्रयोग होते हैं. यह जड़ी-बूटी कड़वी व कसैली होती है लेकिन स्वास्थ्य के लिए और डायबिटीज के लिए सर्वोत्तम है.

गुण व कर्मः-

शरीर में पैदा होने वाली प्रत्येक व्याधि में वात, पित्त, कफ,  इन तीनों दोषों का अथवा एक या दो का प्रकोप अवश्य रहता है. गिलोय में शामक गुण होने के कारण प्रत्येक कुपित दोष को समानावस्था में ला देती है. जिस दोष का प्रकोप होता है, उसको वह शांत कर देती है और जिसकी कमी हो जाती है, उसको बढाकर समानावस्था में ले आती है. यदि वात बढ़ा है तो सोंठ के साथ गिलोय, शक्कर के साथ पित्त बढने पर, शहद के साथ कफ-पित्त होने पर और सोंठ के साथ अमावत को दूर करती है. गिलोय की सूखी बेल से ज्यादा ताजी बेल लाभ देती है और यदि नीम के पेड़ पर चढी बेल हो तो वह सबसे ज्यादा बेल देती है.

प्रयोग:

मधुमेह नाशक गुडुच्यादि चूर्ण:-

गुडुची (गिलोय) नीम, जामुन, गिरी, करेला छिलका (चूर्ण), आंवला चुर्ण, हरीतकी चूर्ण, अश्वगन्धा बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर कपड़े से छान कर लें व शीशी में भरकर चूण रखें. रोजाना भोजन से आधा घंटा पहले यह एक घंटा बाद पानी से 1-1 चम्मच चूर्ण दिन में 3 बार (सूबह, दोपहर,रात) को लें. बढी हुई शुगर जल्द ही कंट्रोल में आ जाती है, नियमित लेते रहने से शुगर लेवल नियंत्रित रहता है.

डायबिटीज नियंत्रण कल्फ:-

बिल्व पत्र (बेल पत्र) नीमपत्र, गिलोय पत्र तना, गुडमार बराबर मात्रा में लेकर (ताजा) कल्फ (चटनी) बनाएँ. भोजनोपरांत (1-2, घंटे बाद ) 1-1 चम्मच पानी या फीके दूध के साथ दिन में दो बार लें.

शुगर कन्ट्रोल वटीः 2 चम्मच मेथी दाना को रात भर पानी (1-गिलास) में भिगों दें सुबह ताजी पत्तियाँ बेल की पत्तियाँ 10-10 को अच्छे से पीसकर उसे पानी में उबाल लें और छानकर ठंडा करके सुबह खाली पेट या नाश्ते के 2 घंटे बाद पिएँ. 8 दिन लगातार पीने से ज्यादा लेवल तक बढ़ी शुगर भी कन्ट्रोल हो जाती है.

मधुमेह नाशक उत्तम योगः

गिलोय पत्ते तना, बिल्व पत्र, दारूहल्दी,  हरड,  बहेड़ा, आंवला 6-6  ग्राम लेकर कूटकर 125 मिली. जल में रात के समय मिट्टी के बरतन में भिगोकर प्रातः मसल-छानकर इसकी आधी मात्रा सुबह बाकी आधी मात्रा शाम को बसन्त कुसुमाकर रस (वटी) की मात्रा के साथ सेवन करें .