आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 10 Apr 2018 18:45:14


कल किये जानेवाले कर्म का विचार करते-करते आज का कर्म भी बिगड़ जाएगा. और आज के कर्म के बिना कल का कर्म भी नहीं होगा, अतः आज का कर्म कर लिया जाये तो कल का कर्म स्वत: हो जाएगा.

  - लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल