सरस्वती शिशु मंदिर के प्रशिक्षण संस्थान का भूमि पूजन

दिंनाक: 18 Apr 2018 14:54:57


भोपाल(विसंके). विद्याभारती मध्यक्षेत्र के कार्यालय तथा प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान भवन का भूमि पूजन कार्यक्रम ई-4 अरेरा कॉलोनी, गुरुद्वारे के सामने, ग्लोरियस एकेडमी परिसर भोपाल में प्रातः 8:30 बजे सम्पन्न हुआ

      इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री शिवराज सिंह चैहान (मुख्यमंत्री, म.प्र.शासन), अध्यक्षता डॉ. गोविन्द प्रसाद शर्मा (राष्ट्रीय अध्यक्ष, विद्याभारती), विशेष अतिथि श्री श्रीराम आरावकर (राष्ट्रीय सहसंगठन मंत्री, विद्याभारती) एवं मध्यक्षेत्र के अध्यक्ष श्री सुरेश गुप्ता विशेष रुप से मंच पर उपस्थित रहे।

      श्री चैहान जी ने कहा कि विद्याभारती शिक्षा क्षेत्र में कार्य करने वाला ऐसा महत्वपूर्ण संस्थान बन गया है, जो शिक्षण, प्रशिक्षण, शोध, कौशल विकास एवं रोजगार सभी उद्धेश्यों की पूर्ति कर रहा है। विद्याभारती का यह प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान सभी के सहयोग से शीघ्र ही बनकर तैयार होगा। हम सब इस कार्य में मुक्त हस्त से सहयोग करें।

      अध्यक्षीय उद्बोधन करते हुए डॉ. गोविन्द प्रसाद शर्मा जी ने कहा कि विद्याभारती सिर्फ शिक्षा के क्षेत्र में ही नहीं आज खेल के क्षेत्र में भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा है। एस.जी.एफ.आई में विद्याभारती ने अकेले 350 से अधिक पदक जीते हैं, आगे और भी श्रेष्ठ प्रदर्शन होगा। विद्याभारती अब उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भी कार्य करेगी। शिक्षा जगत में शीघ्र ही विद्याभारती के महाविद्यालय देखने को मिलेगें।
भूमि पूजन कार्यक्रम में प्रमुख रुप से डॉ. रबिन्द्र कान्हेरे (कुलपति भोज विश्व विद्यालय), डॉ. रामदेव भारद्वाज (कुलपति अटल बिहारी हिन्दी विश्व विद्यालय), श्री जगदीश उपासने (कुलपति, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्व विद्यालय), डॉ. भागीरथ कुमरावत (उपाध्यक्ष, माध्यमिक शिक्षा मण्डल), श्री माधव सिंह दांगी (पूर्व उपाध्यक्ष पाठ्य पुस्तक निगम), श्री सतीश पिंपलीकर (प्रांत संघचालक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ), श्री अशोक पोरवाल (प्रांत प्रचारक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) सहित बड़ी संख्या में विद्याभारती के कार्यकर्तागण आचार्य, दीदी एवं गणमान्य नागरिक महानुभाव भी उपस्थित रहे।


      कार्यक्रम का संचालन श्री विवेक जी (क्षेत्रीय मंत्री, विद्याभारती, मध्यक्षेत्र) एवं आभार प्रदर्शन श्री मोहनलाल गुप्ता (प्रादेशिक सचिव, मध्यभारत प्रांत) द्वारा किया गया। शांति मंत्र के साथ कार्यक्रम का विधिवत् समापन हुआ।