आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 02 Apr 2018 18:17:32


भोपाल(विसंके). बौद्ध मत में दीक्षा लेने के पूर्व उन्होंने कहा था-“देश का यह सबसे बड़ा हित है जो में बौद्ध अपना रहा हूँ क्योंकि बौद्ध मत भारतीय संस्कृति का ही अंग है. मैनें इस बात का ध्यान रखा है कि मेरा मत परिवर्तन इस भूमि के इतिहास और संस्कृति की परंपरा को कोई हानि न पहुचाएं”
अपने हिन्दू कोड बिल के लिए बाबा साहब ने “हिन्दू” शब्द की बहुत व्यापक व्याख्या की थी. इसके अनुसार ईसाई, मुसलमान, पारसी और यहूदियों को छोड़कर देश की सब वैदिक, शैव, जैन, बौद्ध, सिख और वनवासी क्षेत्र की तमाम जातियों को उन्होंने ‘हिन्दू’ शब्द में शामिल किया था.

   - डॉ. भीमराव अम्बेडकर