आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 11 May 2018 17:20:04


धर्म का सिद्धांत है, केवल कर्म करो; उसके परिणामों पर ध्यान मत दो. एकमात्र कर्म ही हमारा पथ-प्रदर्शक होना चाहिए. ईश्वर नहीं कहता कि कार्य करो या उसका त्याग करो; यह तो सब प्रकृति की क्रीड़ा है.


     -लोकमान्य बालगंगाधर तिलक