आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 26 May 2018 17:04:24


भोपाल(विसंके). कठिनाई दूर करने का प्रयत्न ही न हो तो कठिनाई कैसे मिटे. इसे देखते ही हाथ-पैर बाँधकर बैठ जाना और उसे दूर करने का कोई भी प्रयास न करना निरी कायरता है.


            - लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल