राष्ट्र निर्माण का कार्य ही संघ का मूल काम: अद्वैत चरण जी

दिंनाक: 11 Jun 2018 14:49:31


भोपाल(विसंके). विदिशा के स्थानीय सरस्वती शिशु मन्दिर टीलाखेड़ी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का प्रथम वर्ष प्रकट कार्यक्रम के साथ संपन्न हुआ | कार्यक्रम के प्रारम्भ मे वर्ग कार्यवाह हेमंत सेठिया द्वारा प्रतिवेदन का वाचन किया गया जिसमे उन्होने वर्ग कि जानकारी दी कि यह मध्यभारत प्रान्त के भोपाल सम्भाग का प्रथम वर्ष प्रशिक्षण वर्ग 20 मई से 10 जून प्रातः तक आयोजित हैए कुल 20 दिवसीय वर्ग मे 140 स्थानों के 229 शिक्षार्थीयो को 24 शिक्षको द्वारा प्रशिक्षण दिया गया |


समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता पूज्य एनण् चंद्र स्तन थेरो श्रीलंका महाबोधि सोसाइटी सांची द्वारा की गई। उन्होंने अपने उद्बोधन में आशीर्वचन में कहा संघ कार्य की वृद्धि राष्ट्र के लिए परम अवश्यक है |

विदिशा संघ शिक्षा वर्ग का प्रकट कार्यक्रम के साथ समापन
अध्यक्षीय उद्बोधन के पश्यात मुख्य वक्ता श्री अद्वैत चरण जी अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ,  ने कहा कि भगवा कभी आतंकवाद नहीं हो सकता भगवा  को आतंकवाद नाम से प्रचारित करना बहुत बड़ी भूल हैं हम भगवा को त्याग तपस्या समर्पण और बलिदान के रूप में देखते है |


आज पूर्वांचल में परिवर्तन हम देख रहे हैं सेवा के द्वारा ही हम लोगों तक पहुँच रहे है सेवा के काम द्वारा हम लोगों को जोड़ते हैं संघ के स्वयंसेवक वहां जाकर कार्य करते हैं सेवा बस्ती बंचित एवं दूरस्थ इलाकों में संघ के स्वयंसेवक निरंतर कार्य कर रहे हैं |

                भारत पुनः विश्व गुरु बनें यह आज की आवश्यकता है | यह सबल शक्तिशाती समाज के द्वारा ही संभव है | सामर्थ्यशाली संघठित समाज से ही भारत फिर से महाबली बनेगा |


जब हमारे प्रधानमंत्री द्वारा सयुंक्त राष्ट्र संघ में विश्व कल्याण के लिए योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा तो दुनिया भर के १७५ से अधिक देशों नें इस प्रस्ताव को समर्थन प्रदान किया योग प्राचीन काल से हमारे देश में प्रचलित रहा हैं महर्षि पतंजलि द्वारा स्थापित किया गया ऐसी महान संस्कृति के वाहक हमारे पूर्वज रहे हैं |

उन्होने डॉ. हेड्गेवार के बचपन का संस्मरण सुनाया कहा की डॉ. हेड्गेवार बाल्यकाल से ही देश भक्त थे 1921 मे असहयोग आंदोलन मे उन्होने सक्रिय रूप से भाग लिया 13 माह जेल मे रहे तरुणो को लेकर सत्याग्रह किये और आगे चलकर 1925 मे संघ की स्थापना की एक घंटे की शाखा जैसी अभिनव कार्यपद्धति दी जिसका परिणाम हम आज देखते है स 1947 विभाजन के समय अपने प्राणो की आहुति देकर स्वयसेवको द्वारा समाज रक्षा का काम कियास युध्द काल के समय पाकिस्तान के हमलो मे अनेकों स्वयंसेवक शहीद हुए देश की विकट परिस्थितियो मे समय समय पर स्वयसेवको द्वारा समर्पण किया गया ऐसें मान बिन्दुओ की रक्षा एवं समाज जागरण के प्रयासों मे स्वयसेवको ने गौ रक्षा गंगा माता एकात्मता यात्राए राम सेतु अयोध्या आंदोलन अमरनाथ शाईन बोर्ड मे अपनी अहम भूमिका रखी |

कार्यक्रम में ओमप्रकाश साहू द्वारा आभार प्रकट किया गया इस अवसर पर मध्यभारत प्रान्त के सह संघचालक अशोक जी पण्डे उपस्थित रहे विदिशा नगर से प्रबुद्ध जन समाज प्रमुख मातृ शक्ति एवं पत्रकार बन्धु उपस्थित थे |