आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 11 Jun 2018 16:23:23


भोपाल(विसंके). ईश्वर पूर्ण रूप से पवित्र और बुद्धिमान है. उसकी प्रकृति, गुण, और शक्तियां सभी पवित्र हैं. वह सर्वव्यापी, निराकार, अजन्मा, अपार, सर्वज्ञ, सर्वशक्तिशाली, दयालु और न्याययुक्त है. वह दुनिया का रचनाकार, रक्षक, और संघारक है.


 

    -  स्वामी दयानंद सरस्वती