आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 14 Jul 2018 13:59:57


भोपाल(विसंके). यह देश यदि पश्चिम की शक्तियों को ग्रहण करे और अपनी शक्तिओं का भी विनाश नहीं होने दे तो उसके भीतर से जिस संस्कृति का उदय होगा वह अखिल विश्व के लिए कल्याणकारिणी होगी. वास्तव में वही संस्कृति विश्व की अगली संस्कृति बनेगी.


  • महर्षि अरविन्द