स्वामी विवेकानंद जी की प्रेरक कहानी - लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित करना

दिंनाक: 24 Jul 2018 14:29:43


भोपाल(विसंके). एक बार स्वामी विवेकानंद जी अपने आश्रम में थल रहे थे की एक व्यक्ति उनके पास आया जो की बहुत दुखी था और आते ही स्वामी विवेकानंद जी के चरणों में गिर पड़ा और बोला महाराज मै अपने जीवन में खूब मेहनत करता हु हर काम खूब मन लगाकर भी करता हु फिर भी आजतक मै कभी सफल व्यक्ति नही बन पाया

उस व्यक्ति की बाते सुनकर स्वामी विवेकानंद ने कहा ठीक है आप मेरे इस पालतू कुत्ते को थोडा देर तक घुमाकर लाये तबतक आपके समस्या का समाधान ढूढ़ता हु इतना कहने के बाद वह व्यक्ति कुत्ते को घुमाने लेने चला गया और फिर कुछ समय बीतने के बाद यह व्यक्ति स्वामी विवेकानंद के पास वापस लौट आया था

तो स्वामी विवेकानंद ने उस व्यक्ति से पूछा की यह कुत्ता इतना हाफ क्यू रहा है जबकी तुम थोड़े से थके हुए नही लग रहे हो आखिर ऐसा क्या हुआ.

इसपर उस व्यक्ति ने कहा की मै तो सीधा अपने रास्ते पर चल रहा था जबकि यह कुत्ता इधर उधर रास्ते भर भागता रहा और कुछ भी देखता तो उधर ही दौड़ जाता था जिसके कारण यह इतना थक गया है

इसपर स्वामी विवेकानंद जी मुस्कुराते हुए कहा बस यही तुम्हारे प्रश्नों का जवाब है तुम्हारी सफलता की मंजिल तो तुम्हारे सामने ही होती है लेकिन तुम अपने मंजिल के बजाय इधर उधर भागते हो जिससे तुम अपने जीवन में कभी सफल नही हो पाए. यह बात सुनकर उस व्यक्ति को समझ में आ गया था की यदि सफल होना है तो हमे अपने मंजिल पर ध्यान देना चाहिए

कहानी से शिक्षा –

स्वामी विवेकानंद जी के इस कहानी से हमे यही शिक्षा मिलती है की हमे जो करना है जो कुछ भी बनना है हम उपसर उतना ध्यान नही देते है और दुसरो को देखकर वैसा ही हम करने लगते है जिसके कारण हम अपने सफलता के मंजिल के पास होते हुए दूर भटक जाते है इसलिए अगर जीवन में सफल होना है तो हमेसा हमे अपने लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए