आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 25 Jul 2018 13:18:02


आस्था वह पक्षी है जो भोर के अँधेरे में भी उजाले को महसूस करती है


- रवीन्द्रनाथ