आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 27 Jul 2018 15:00:04


जो कुछ हमारा है वो हम तक आता है ; यदि हम उसे ग्रहण करने की क्षमता रखते हैं.

 

-   रवीन्द्रनाथ टैगोर