आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 03 Jul 2018 14:09:05


मोह से भरा हुआ इंसान एक सपने कि तरह हैं, यह तब तक ही सच लगता है जब तक आप अज्ञान की नींद में सो रहे होते है।


जब नींद खुलती है तो इसकी कोई सत्ता नही रह जाती है।

- आदि शंकराचार्य