23 साल से गढ़ोला खाड़े गाँव के जीर्णोद्धार के लिए कार्य कर रहे मुलायम सिंह ठाकुर ने गाँव को जिले का सबसे साफ गाँव बनाया

दिंनाक: 30 Jul 2018 16:43:44


भोपाल(विसंके). विद्या भारती मध्य क्षेत्र के पूर्व अध्यक्ष ठाकुर मुलायम सिंह जी द्वारा अपने ग्राम में परिवर्तन के प्रयास की सफल कहानी ।
प्रिंसिपल ने रिटायरमेंट के बाद गांव की तस्वीर बदली; 100% साक्षर, स्वच्छता का अवॉर्ड, कम्प्यूटर सेंटर भी खोला

दमोह के गढ़ौला खाड़े गांव में मुलायम सिंह ठाकुर(इनसेट में) ने गांव में फिटनेस के लिए ट्रेनिंग स्कूल बनवाया।

जिले के बटियागढ़ जनपद का गढ़ौला खाड़े गांव। यह गांव 100 फीसदी साक्षर है। स्वच्छता का अवॉर्ड भी मिल चुका है। यहां फिटनेस के लिए ट्रेनिंग स्कूल, कम्प्यूटर सीखने के लिए सेंटर और बच्चों के लिए जनसहयोग से बना प्री-प्राइमरी स्कूल है। यही नहीं, इस गांव में कोई नशा नहीं करता, यह अपराध शून्य गांव है। यह सब संभव हुआ है गांव में ही जन्मे 75 साल के मुलायम सिंह ठाकुर की वजह से। 

    23 साल पहले मुलायम सिंह उज्जैन के सरकारी पॉलीटेक्निक कॉलेज में प्राचार्य के पद से रिटायर हुए और गांव में आकर बस गए। उनके तीन बेटे हैं। एक मेजर जनरल, दूसरा इंजीनियर और तीसरा लेक्चरर है। मुलायम सिंह रिटायरमेंट के बाद उज्जैन में ही रहना चाहते थे, लेकिन गांव की बदहाली देखकर उन्होंने तय किया कि जब तक गांव की तस्वीर नहीं बदलेंगे, वे यहीं रहेंगे। गांव में शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार को लक्ष्य बनाकर उन्होंने लोगों को एकजुट किया। गांव की समृद्धि को लेकर वे अपने बेटों के साथ संवाद करते रहे। गांव वालों ने भी एक कदम आगे आकर साथ दिया और गांव ने अपनी पहचान खुद बनानी शुरू कर दी।   ऐसे बदली गांव की तस्वीर: 1995 में रिटायर होने के बाद मुलायम सिंह ठाकुर ने सबसे पहले युवाओं को जोड़ा और उनकी कमेटी बनाई। उन्हें एकजुट कर श्रमदान के लिए प्रेरित किया। मेहनत रंग लाई। श्रमदान से ही गांव में मंदिर, धर्मशाला, चबूतरा, प्री प्राइमरी स्कूल और ट्रेनिंग सेंटर बना। इस काम में उनकी पत्नी कृष्णा सिंह भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गांव की स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए गठित की गई कमेटी की अध्यक्ष वे ही बनीं। उनके मार्गदर्शन में 120 युवक-युवतियों ने मिलकर पौधे रोपे। सभी पेड़ जीवित रखने के लिए संकल्प दिलाया गया। यहां तक कि गर्मी के दिनों में पेड़ सूख न जाए, इसलिए मटके रखकर टपक पद्धति से पानी दिया गया।